Followers

Copyright

Copyright © 2023 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

शनिवार, 15 जनवरी 2022

"सांझ"


बच्चन जी की कविता "साथी सांझ लगी होने" पढ़ते हुए स्वत: ही मन में उठे भावों को रुप देने का प्रयास एक कविता के रुप में ...


गोताखोर बनी शफरियां

खेल रहीं दरिया जल में

मन्थर लहरें डोल रही हैं ढलते सूरज के संग में

अब रात लगी होने


नेह के तिनके जोड़ गूंथ कर

नीड़ बसाया खग वृन्दों ने

एक - एक कर उड़े सभी वो विचरण करने नभ में

रिक्त लगे नीड़ होने


पंचभूत की बनी यह काया

जीवन आनी जानी माया

एक सूरज डूबे दरिया में और एक मेरे मन में

पाखी लौट चलें सोने !!


***

[ चित्र :-गूगल से साभार ]










35 टिप्‍पणियां:

  1. वीत राग का एहसास कराती रचना । बेहतरीन अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके उत्साहवर्धन से सृजन सार्थक हुआ । हृदय से असीम आभार मैम 🙏🌹

      हटाएं
  2. पंचभूत की बनी यह काया

    जीवन आनी जानी माया

    एक सूरज डूबे दरिया में और एक मेरे मन में

    पाखी लौट चलें सोने !!बेहतरीन रचना सखी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हृदय से असीम आभार सखी 🌹

      हटाएं
  3. हर उक्ति में यथार्थ-तत्त्व की परिलक्षित गरिमा । अति सुन्दर सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत समय के बाद आपकी स्नेहिल उपस्थिति से अतीव हर्ष की अनुभूति हुई । आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया सदैव मेरे सृजन को सार्थक करती है । हृदय से असीम आभार अमृता जी !

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हृदय से असीम आभार ज्योति जी !

      हटाएं
  5. जीवन संदर्भ को आलोकित करता शाश्वत सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हृदय से असीम आभार जिज्ञासा जी ।

      हटाएं
  6. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर रविवार 16 जनवरी 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. पाँच लिंकों का आनन्द में सृजन को साझा करने हेतु सादर आभार आ. रवीन्द्र सिंह जी 🙏

      हटाएं
  7. नेह के तिनके जोड़ गूंथ कर

    नीड़ बसाया खग वृन्दों ने

    एक - एक कर उड़े सभी वो विचरण करने नभ में

    रिक्त लगे नीड़ होने
    जीवन का कटु सत्य है ये...जीवन की सांझ और नीड़ भी खाली खाली...
    बहुत सुन्दर भावपूर्ण...
    लाजवाब सृजन
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हृदय से असीम आभार सुधा जी ।

      हटाएं
  8. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (16-1-22) को पुस्तकों का अवसाद " (चर्चा अंक-4311)पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  9. चर्चा मंच की चर्चा में सृजन का चयन करने हेतु हार्दिक आभार कामिनी जी ॥

    जवाब देंहटाएं
  10. दर्शन और अध्यात्म दोनों को सुंदरता से छोटी सी रचना में समेट लिया है मीना जी आपने ,कबीर की तरह।
    अद्भुत सृजन।

    तीनों अंतरे गहन सांकेतिक भावों से परिपूर्ण।🌷

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेहिल उत्साहवर्धन से अभिभूत हूँ । हृदय से असीम आभार कुसुम जी । 🌹🙏

      हटाएं
  11. पाखी लौट चलें सोने !!
    राग से वैराग की ओर ले जाती सुंदर रचना! --ब्रजेंद्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना पाकर सृजन सार्थक हुआ । हृदय से असीम आभार सर 🙏

      हटाएं
  12. निशब्द।
    सराहना से परे।
    अंतस की परतों को छूता सृजन।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेहिल उत्साहवर्धन से अभिभूत हूँ । हृदय से असीम आभार अनीता जी ।

      हटाएं
  13. पंचभूत की बनी यह काया

    जीवन आनी जानी माया

    एक सूरज डूबे दरिया में और एक मेरे मन में

    पाखी लौट चलें सोने !!
    सुंदर रचना आदरणीय ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हृदय से असीम आभार आ. दीपक जी ।

      हटाएं
  14. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हृदय से असीम आभार
      भारती जी ।

      हटाएं
  15. एक सूरज डूबे दरिया में और एक मेरे मन में

    पाखी लौट चलें सोने !!

    waah

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए आपका हृदय से असीम आभार 🙏

      हटाएं
  16. उत्साहवर्धन करती सराहना के लिए हार्दिक आभार मनीषा जी🌹

    जवाब देंहटाएं
  17. जैसे भाव बच्चन जी की उस कविता के हैं, वैसे ही आपने भी अभिव्यक्त किए हैं मीना जी। दिल में अचानक उभर आने वाली भावनाएं यूं ही अभिव्यक्त कर दी जानी चाहिए। बहुत अच्छा लगा पढ़कर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना पाकर सृजन सार्थक हुआ । हृदय से असीम आभार जितेन्द्र जी ।

      हटाएं
  18. वीत रागी की तरह ... आध्याम का भाव समेटे कई बार ऐसे ही जीवन से जुड़ी रचनाएँ जनम ले लेती हैं ... बहुत भावपूर्ण रचना ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना पाकर सृजन सार्थक हुआ । हृदय से असीम आभार नासवा जी ।

      हटाएं
  19. In Ontario, four April 2022 noticed the re-introduction of the web gambling market. This grew to become attainable when the Canadian Criminal Code was amended to permit single-event wagering August 1xbet 2021. The province is predicted to generate about $800 million in gross revenue per 12 months.

    जवाब देंहटाएं

मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार 🙏

- "मीना भारद्वाज"