Followers

Copyright

Copyright © 2023 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

सोमवार, 27 मार्च 2023

“क्षणिकाएँ”


भोर से सांझ तक .. 

एक आलस भरा दिन

 मुट्ठी से रेत सा

निकल गया..

चलो ! अच्छा है 

ज़िन्दगी के रजिस्टर में

एक दिन और..

दिहाड़ी का पूरा हुआ ।


*


समय की शाख से टूट कर 

एक पल.,,

चुपके से आ गिरा सिरहाने पर

ऐसे समय में

रात की साम्राज्ञी को 

ठाँव कहाँ..

बेचारी बेघर सी भटकती 

रहेगी अब

दृग पटल के इर्द-गिर्द ।


*


मंगलवार, 14 मार्च 2023

“मैत्री”

( Click by me )

सूरज की सोहबत में

लहरों के साथ दिन भर

गरजता उफनता रहा 

समुद्र ..

साँझ तक थका-मांदा 

जलते अंगार सा वह जब

जाने को हुआ अपने घर

 तो..

बिछोह की कल्पना मात्र से ही

बुझी राख सा धूसर 

हो गया सारे दरिया का

 पानी …

चलते -चलते मंद स्मित के साथ 

सूरज ने स्नेहिल सी सरगोशी की

बस..

रात , रात की ही तो बात है 

मैं फिर आऊँगा

माणिक सी मंजूषा में कई रंग लिए

कल..

हम फिर से निबाहेंगे वही

अनादि काल से चली आ रही 

 परिपाटी ।


***

शुक्रवार, 3 मार्च 2023

“त्रिवेणी”

Click by me

आँगन की माटी और छत की मुँडेरों से

गौरैयाओं के परिवार कहीं खो गए है ..,


लुप्त प्रजाति की सूची में प्रेम अब सबसे ऊपर है 

                  

🍁


फ़ुर्सत के पलों में तेरे गली-कूचों में 

भटकता फिरता है़ ख़ामोश मन..,


उम्र भर के नेह की बात जो ठहरी ।


🍁


तुमसे मिलना ख़्वाबों में ही हुआ करेगा

बिछड़ते वक़्त यह सोचा नहीं था..,


मुद्दतें हुईं अपने बीच के सभी पुल ढहे ।


🍁