Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

बुधवार, 22 अगस्त 2018

"सपना"(चौपाई)

नील गगन आंगन में तारे  ।
निशदिन हम को तकते सारे ।।

सोचूं इक दिन इनको जानूं ।
मन की सब बातें पहचानूं  ।।

सोचा मैं अम्बर पर जाऊं  ।
तारों की झोली भर लाऊं  ।।

टकेंगे जब चूनर पर सारे  ।
जुगनूु  छुप जायेंगे सारे  ।।

चूनर  ओढ़ेगी जब सजनी  ।
शर्मायेगी देख के रजनी  ।।

चाँद धरा के ऊपर होगा  ।
तरुणी मुख चन्दा सम होगा ।।

XXXXX

33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर रचना ...
    सपने में इंसान की उड़ान कहाँ से कहाँ पहुँच जाती है ...
    हर छंद कमाल है ...

    जवाब देंहटाएं
  2. अभिव्यक्ति सराहना के लिए हृदयतल से धन्यवाद आशुतोष जी ।

    जवाब देंहटाएं
  3. मीना दी, सपनों की उड़ान का बहुत ही सुंदर चित्रण किया हैं आपने।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहनीय प्रतिक्रिया के लिए आपका हृदयतल से धन्यवाद ज्योति ।

      हटाएं
  4. बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहनीय प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से धन्यवाद संजय जी ।

      हटाएं
  5. चूनर ओढ़ेगी जब सजनी ।
    शर्मायेगी देख के रजनी ।।... बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति मीना जी

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बहुत आभार सतीश सही जी ।

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2018/08/84.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  9. आभार राकेश जी "मित्र मंडली" में रचना को स्थान देने के लिए ।

    जवाब देंहटाएं
  10. श्रृंगार और सौन्दर्य उस कर कोमल भाव बहुत सुंदर कविता मीना जी, लालित्य और मधुरिमा समेटे अप्रतिम रचना।

    जवाब देंहटाएं
  11. सराहनीय प्रतिक्रिया हेतु हृदयतल से धन्यवाद कुसुम जी ।

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह- मीना जी अत्यंत मानभावन सपना !!!!!! बालसुलभ कल्पना - नभ के खिलखिलाते आंगन को देखने की, तारों को झोली में भरते की | भ्रम है पर कितना मनोरम है ये सपना !!!!!! सस्नेह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी ऊर्जावान प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से धन्यवाद रेणु जी !! सस्नेह .

      हटाएं
  13. स्वागत आपका "मंथन" पर । आपकी उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक धन्यवाद 🙏 .

    जवाब देंहटाएं
  14. उत्तर
    1. स्वागत आपका "मंथन" पर और तहेदिल से शुक्रिया हौसला अफजाई के लिए ।

      हटाएं
  15. उत्तर
    1. स्वागत आपका "मंथन" पर और तहेदिल से शुक्रिया हौसला अफजाई के लिए सरिता जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"