Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

शनिवार, 29 अगस्त 2020

"क्षणिकाएं"

कड़वे घूंट सा आवेश
 तो पी लिया
मगर...
गहरी सांसों में मौन भरे
 पलकों की चिलमन में
एक क़तरा...
अटका रह गया वह
अभी तक वहीं ठहरा है
खारे सागर सा..
🍁

हर दिन 
एक वादा..
कभी न तोड़ने के लिए
और…,
अगले ही दिन
एक विमर्श..
उसे तोड़ने के लिए
🍁

चलो !!
आज यूं भी कर लें
हवाओं में घुली आशाएं
सांसों में भर लें
उड़ा दें एक फूंक में
सारी चिंताएं..
दूर करें मन के क्लेश
पंछी से गुनगुनाएं
निखरी-धुली फिज़ाओं के
स्वागत में ...
खुले हृदय से बाहें फैलाएं
🍁

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (30-08-2020) को    "समय व्यतीत करने के लिए"  (चर्चा अंक-3808)    पर भी होगी। 
    --
    श्री गणेशोत्सव की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच की प्रस्तुति में क्षणिकाओं को सम्मिलित करने हेतु.
      आपको भी गणेशोत्सव की अग्रिम शुभकामनाएं 🙏

      हटाएं
  2. हर दिन
    एक वादा..
    कभी न तोड़ने के लिए
    और…,
    अगले ही दिन
    एक विमर्श..
    उसे तोड़ने के लिए
    क्योंकि वादा निभाने की हिम्मत नहीं बची....
    वाह!!!
    एक से बढ़कर एक क्षणिकाएं।
    लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु सस्नेह आभार सुधा जी !

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 29 अगस्त 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सांध्य दैनिक मुखरित मौन में क्षणिकाओं को साझा करने हेतु बहुत बहुत आभार यशोदा जी । सादर...

      हटाएं
  4. आ मीना भारद्वाज जी, बहुत सटीक और सार्थक क्षणिकाएँ!--ब्रजेन्द्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन का मान बढ़ा । हृदयतल से आभार सर !

      हटाएं
  5. वाह!लाजवाब सराहना से परे एक से बढ़कर एक क्षणिकाए।
    बेहतरीन 👌👌

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्साहवर्धन हेतु सस्नेह आभार अनीता !

    जवाब देंहटाएं
  7. वादा और विमर्श ... वाह ... बहुत ही अच्छी लगी ... चन्द लाइनों में गहरी लम्बी बातों का जवाब नहीं ...

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन का मान बढ़ा । हृदयतल से आभार नासवा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  9. हर दिन
    एक वादा..
    कभी न तोड़ने के लिए
    और…,
    अगले ही दिन
    एक विमर्श..
    उसे तोड़ने के लिए
    बहुत खूब,लाज़बाब सृजन मीना जी,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए सहृदय आभार कामिनी जी
      सादर वन्दे !

      हटाएं
  10. सार्थक क्षणिकाएँ मीनाजी।
    ये विशेष अच्छी लगी -

    हर दिन
    एक वादा..
    कभी न तोड़ने के लिए
    और…,
    अगले ही दिन
    एक विमर्श..
    उसे तोड़ने के लिए।

    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको क्षणिका पसंद आई ..लेखन सार्थक हुआ । बहुत बहुत आभार मीना जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"