Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

गुरुवार, 9 अगस्त 2018

"सावन” दोहे

(1)      उमड़ घुमड़ कर छा गए, बादल ये घनघोर ।
इन्द्र देव की है कृपा , नाचें मन का मोर ।।

(2) सावन आया हे सखी , तीजों का त्यौहार ।
पहन लहरिया आ गई , मूमल सी घर नार ।।

(3) गूंजे मीठी  बोलियां , गीतों की भरमार ।
भाई आया पाहुना , राखी का त्यौहार ।।

(4) मैं पूजूं शिव पार्वती ,  करूं यही अरदास ।
दया रहे बस आपकी , सुखी रहे घर बार ।।

(5) हो सम्पन्न वसुंधरा , सजे खेत खलिहान ।
आलम्बन निज मान के , बने सभी इन्सान ।।

               

                          XXXXX


6 टिप्‍पणियां:

  1. सावन की मीठी फुहार और इस मौसम से जुड़ी रीति रिवाजों को जोड़ के लिखे सुंदर दोहे ...
    बहुत मधुर ...

    जवाब देंहटाएं
  2. मीना दी,सभी दोहे एक से एक हैं। बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  3. स्नेहिल और अपनत्व भरे सम्बोधन और दोहों की सराहना के लिए हृदयतल से धन्यवाद ज्योति :-)

    जवाब देंहटाएं
  4. सभी दोहे बहुत सुंदर हैं

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"