Followers

Copyright

Copyright © 2022 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

शनिवार, 1 जनवरी 2022

"बादल"

आज किस यक्ष का

संदेशा ले आए बादल !

शीत ऋतु की

खिली-खिली भोर में

बड़े इधर-उधर मंडरा रहे हो 


रात भर जाग कर

लैपटॉप पर काम करती

कोई विरहिणी

अभी अभी सोयी होगी 

बंद खिड़की पर

तुम्हारी दस्तक…,

मुझे नहीं लगता

उसके कानों तक गई होगी 


वैसे तुम चाहो तो

अपनी उपस्थिति के चिन्ह 

उसकी खिड़की पर 

छोड़ सकते हो 

बुद्धिमती है वो

सब कुछ जान लेगी

सूर्य के आगमन से पूर्व

जागी तो 

तुषार कणों में निहित

 गूढ़ सन्दर्भ पहचान लेगी


अच्छा लगता है 

तुम्हें देख कर तुम अब भी

परोपकार करते हो

कभी दूत बन कर

कभी रिमझिम बरस कर

धरा वासियों की झोली

असीम सुख से भरते हो


***

🙏💐🙏  नववर्ष मंगलमय हो... हार्दिक शुभकामनाएँ🙏💐🙏











38 टिप्‍पणियां:

  1. रात भर जाग कर

    लैपटॉप पर काम करती

    कोई विरहिणी

    अभी अभी सोयी होगी

    बंद खिड़की पर

    तुम्हारी दस्तक…,

    मुझे नहीं लगता

    उसके कानों तक गई होगी... बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति आदरणीय मीना दी।
    नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो।
    सादर स्नेह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार अनीता जी!

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर रविवार 02 जनवरी 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. पांच लिंकों का आनन्द पर आमन्त्रण हेतु नववर्ष की शुभकामनाओं सहित सादर आभार आ . रवीन्द्र सिंह जी।

      हटाएं
  3. ये विरहणी ही क्यों लैपटॉप पर काम करके सोई होगी 😄😄

    वैसे मज़ाक एक तरफ ..... खूबसूरती से धरा वासियों के सुख की बात कही है ।
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी ऊर्जात्मक सराहना से सृजन सार्थक हुआ मैम! नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार🙏💐🙏

      हटाएं
  4. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार(2-1-22) को २0२२ कहता है २०२२(चर्चा अंक4297)पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार कामिनी जी।

      हटाएं
  5. आदरणीया मीना भारद्वाज जी, नमस्ते👏! नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    तुषार कणों में निहित
    गूढ़ सन्दर्भ पहचान लेगी
    आधुनिक जीवन के साथ प्रकृति की आहट को जोड़ती बहुत सुंदर रचना!साधुवाद!--ब्रजेंद्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ आदरणीय सर🙏 आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली हृदय से असीम आभार ।

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार नीतीश जी ।

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,मीना दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार ज्योति जी।

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार जोशी सर।

      हटाएं
  9. बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति!
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
    नववर्ष मंगलमय हो नववर्ष आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ लेकर आये!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित स्नेहिल आभार मनीषा जी।

      हटाएं
  10. वाह बेहतरीन अभिव्यक्ति
    नववर्ष की ढेरों शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार भारती जी।

      हटाएं
  11. सुंदर भाव! एहसासों को समेटे अभिनव रचना।
    मेघदूत आज भी संदेश वाहक है या नहीं पर विरह से संतप्त लोगों के लिए एक साथी तो अवश्य है।
    सुंदर सृजन मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
  12. आपकी सार्थकता सम्पन्न प्रतिक्रिया सृजन को ऊर्जात्मक मुखरता प्रदान करती है । स्नेहिल आभार कुसुम जी ।

    जवाब देंहटाएं
  13. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी एक रचना शुक्रवार ७ जनवरी २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।
    नववर्ष मंगलमय हो।

    जवाब देंहटाएं
  14. पांच लिंकों का आनन्द में सृजन को सम्मिलित करने हेतु हार्दिक आभार श्वेता जी ॥ आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  15. अच्छा लगता है

    तुम्हें देख कर तुम अब भी

    परोपकार करते हो

    कभी दूत बन कर

    कभी रिमझिम बरस कर

    धरा वासियों की झोली

    असीम सुख से भरते हो.. बहुत सुखद अनुभूति देती सुंदर लाजवाब पंक्तियाँ.. नायाब सृजन । बहुत बहुत शुभकामनाएं आदरणीय मीना जी💐🙏

    जवाब देंहटाएं
  16. आपकी सार्थकता सम्पन्न प्रतिक्रिया सृजन को ऊर्जात्मक मुखरता प्रदान करती है । स्नेहिल आभार जिज्ञासा जी 🏜🙏

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत ही खूबसूरत रचना है🙏 Ma'am.

    जवाब देंहटाएं
  18. स्वागत आपका ब्लॉग पर 🙏
    हार्दिक आभार भारती जी ।

    जवाब देंहटाएं
  19. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

    जवाब देंहटाएं
  20. कल्पना की सुन्दर उड़ान । हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सार्थकता सम्पन्न प्रतिक्रिया सृजन को सदैव ऊर्जात्मक मुखरता प्रदान करती है । हार्दिक शुभकामनाओं सहित असीम आभार अमृता जी ।

      हटाएं
  21. अच्छा लगता है

    तुम्हें देख कर तुम अब भी

    परोपकार करते हो

    कभी दूत बन कर

    कभी रिमझिम बरस कर

    धरा वासियों की झोली

    असीम सुख से भरते हो
    वाह!!!
    बहुत सुन्दर मनमोहन शब्दचित्रण।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सार्थकता सम्पन्न प्रतिक्रिया सृजन को सदैव ऊर्जात्मक मुखरता प्रदान करती है । स्नेहिल आभार सुधा जी।

      हटाएं
  22. बहुत ही खूबसूरत
    नववर्ष मंगलमय हो नववर्ष आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ लेकर आये 🙏

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक अनुज !

      हटाएं
  23. शीत के बादल ...
    मन में कोमल भाव जगा जाएँ जो देवदूत की तरह अपने आगमन के क्षण छोड़ जाते हैं ... नव वर्ष का स्वागत है ....

    जवाब देंहटाएं
  24. आपकी ऊर्जात्मक सराहना से सृजन सार्थक हुआ नासवा जी ! नववर्ष की शुभकामनाओं सहित हार्दिक आभार ।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"