Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

रविवार, 10 सितंबर 2017

“त्रिवेणी"

(This image has been taken from google)
( 1 )

प्रकृति में रूक्षता और कठोरता दिखती है
ओस कण तो मृदुल और तरल होते हैं ।

लगता है कभी‎ अपनापा बड़ा गहरा रहा होगा ।।

( 2 )

ताल के सोये पानी को कंकड़ी मार
शरारती बच्चे ने गहरी नीन्द से जगा दिया ।

तुम  से मिल के भी  बस यूं ही हलचल हो जाती है।।

( 3 )

बहुत सारे  फूल  हवाओं के झकोरों संग
झुण्ड के झुण्ड शाखों को छोड़ कर चल दिए ।
शायद अस्तित्व‎ की तलाश में ।।

xxxxx

12 टिप्‍पणियां:

  1. वाह्ह्ह....बहुत सुंदर लाज़वाब त्रिवेणी मीना जी।👌👌
    अर्थ भाव सब समेटे हुये सुंदर रचना आपकी।

    जवाब देंहटाएं
  2. लेखन कार्य की सराहना के लिए अत्यन्त आभार श्वेता जी .

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... त्रिवेनियों के मास्ध्यम से कितनी गहरी बात कही जाती है ... बहुत खूब ...

    जवाब देंहटाएं
  4. उत्साह‎वर्धन करती सराहना के लिए बहुत बहुत‎ धन्यवाद दिगम्बर जी ।।

    जवाब देंहटाएं
  5. ज्योति जी, "मंथन" पर आपका हृदय से स्वागत है। आपकी सराहना हेतु बहुत बहुत‎ धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  6. मार्मिकता से लबरेज़ क्षणिकाओं की त्रिवेणी अलग-अलग धाराओं से बहकर भागीरथी-सी निर्मल धारा बनकर हमारे दिलों को पावन स्नान कराती है ,भावों से सराबोर करती है।
    बधाई मीना जी ऐसी त्रिवेणी से पाठकों को परिचित कराने के लिए।

    जवाब देंहटाएं
  7. दरअसल‎ गुलजार साहब की त्रिवेणियाँ पढ़ी थी कभी‎ तो मन किया कोशिश कर के देखूं इस डगर पर चलने की। रचनात्मकता शैली पर आप गुणीजनो की प्रतिक्रिया‎ से उत्साह‎वर्धन हुआ।अत्यन्त आभार रविन्द्र सिंह जी ।

    जवाब देंहटाएं
  8. टीस सी छोडती हुई गहरी बात उफ़ ... कैसे सोच लेती हैं इतना सब कुछ :)

    जवाब देंहटाएं
  9. रचनात्मक शैली‎ को मान देने के लिए बहुत‎ बहुत‎ धन्यवाद संजय जी ।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"