Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

सोमवार, 8 जुलाई 2019

"हम कदम"

(This photo has been taken from Google)

अनवरत भाग-दौड़ कभी खुद के पैरों पर खड़े होने की
जद्दोजहद तो कभी सब की अंगुली थाम कारवाँ के साथ
चलने की मशक्कत …, जीवन बीता जा रहा रहा था
गाड़िया लुहारों जैसा.. आज यहाँ-कल वहाँ ।  मेरे साथ
मेरे हम कदम बन भागते दौड़ते तुम ….., कब
Oasis की पहचान करना खुद सीख गए और कब उनकी
उपयोगिता मुझे सीखाते चले गए भान ही नही हुआ ।
कभी किसी उपन्यास में खुद को डुबोये एक ख्वाब देखा था इन्द्रधनुषी तितली सा ...जो कल्पित होते हुए भी मेरी आँखों
में जीवन्त था अपनी पूरी सम्पूर्णता के साथ…, उस ख्वाब
को मैं भूल गई थी किसी उपन्यास के बीच दबाये  
नोट की तरह । कभी फुर्सत के पलों में वह ख्वाब मैने
तुम से साझा किया था … आज वही पुराना उपन्यास तुमने
मेरी खुली हथेली पर रख दिया है…और इन्द्रधनुषी तितली
पंख फैलाये मेरी आँखों के सामने साकार है अपनी
पूरी जीवन्तता के साथ । थैंक्स...थैंक्स अ लॉट !!!
तुम्हारे नेह की मैं ऋणी रहूँगी युगों… युगों तक ।

**********



 

14 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार जताने से विश्वास की लौ बढ़ती है
    जिसकी चमक आंखो में दिखाई देती है
    हर एक पंक्ति दिल से शुरू हो कर दिल पे ही दस्तक देती है.....एक सुखद अहसास की भांति

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया सदैव लेखनी को सम्बल देती है । हृदयतल
      से बहुत बहुत आभार संजय जी ।

      हटाएं
  2. बहुत प्यारी अभिव्यक्ति सुनहरे एहसास समेटे मन के कोमल भाव स्नेह स्पर्श से फिर महक उठे।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी स्नेहमयी प्रतिक्रिया से लेखन को सम्बल मिलता है कुसुम जी । हृदय से स्नेह सहित आभार ।

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती आपकी प्रतिक्रिया से लेखन को सार्थकता मिली । बहुत बहुत आभार , सादर .

      हटाएं
  4. प्रेम इंसान को कई बार हवा पे सवार कर देता है और दूसरी दुनिया ले जाता है ... प्रेम का साथ सदा बना रहे तो जीवन भी आसान हो जाता है ...

    जवाब देंहटाएं
  5. हौसला अफजाई करती प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार नासवा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  6. अप्रतीम लेखन !!!
    मुझे आपसे हमेशा सीखने का मौका मिलता रहा है आपका तहे दिल से शुक्रिया 🙏😇 !!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह आपका बड़प्पन है बहना ! आभार सराहना के लिए ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"