Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

गुरुवार, 2 जनवरी 2020

"विहान"

सुरम्य सुरभित नव विहान ,
तुमसे है मुझे कुछ मांगना ।
मेरे और अपनों की खातिर ,
ऊर्जस्विता की है कामना ।।

तमस हर  अज्ञान का ,
ज्ञान पुंज बढ़ता रहे ।
राग-द्वेष , वैर-भाव  का 
मनोमालिन्य घटता रहे ।।

विहगों के कलरव गान सम ,
समता -बन्धुता का राग हो ।
मानव निस्पृह तरुवर सदृश
हिमाद्रि सम ठहराव हो ।।

सुरम्य सुरभित नव विहान ,
मेरी तुमसे यही चाहना ।
सम्पूर्ण विश्व परिवार तुल्य ,
बस इतनी सी है कामना ।।

★★★★★

30 टिप्‍पणियां:

  1. कल्याणमयी कामना फलीभूत हो,आपके स्वर में हम भी अपना स्वर मिलाते हैं.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. असीम आभार मैम ...,आपकी प्रतिक्रिया से लेखनी सार्थक हुई ।

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज गुरुवार 02 जनवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सांध्य मुखरित मौन में रचना साझा करने के लिए हार्दिक आभार यशोदा जी ।

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. आपसे आशीर्वचन पाकर अभिभूत हूँ दी ! सादर आभार ।

      हटाएं
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं

  5. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(०४-०१-२०२०) को "शब्द-सृजन"- २ (चर्चा अंक-३५८०) पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….

    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच के शब्द-सृजन अंक में मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए हार्दिक आभार अनीता जी ।

      हटाएं
  6. तमस हर अज्ञान का ,
    ज्ञान पुंज बढ़ता रहे ।
    राग-द्वेष , वैर-भाव का
    मनोमालिन्य घटता रहे ।।
    वाह!!!
    बहुत ही सुन्इ रचना
    अद्भुत शब्दविन्यास...

    जवाब देंहटाएं
  7. सकारात्मक ऊर्जा लिए हर शब्द ...
    बहुत सुन्दर रचना है ...

    जवाब देंहटाएं
  8. bahut smay baad aana huya is traf.....aapki rchnaa pdhnaa to lazmi thaa hi

    बस इतनी सी है कामना

    hmm..in shoti shoti si kaamnon ne hi mohjaal bichaa rkhaa he

    bahut hi pyaari rchnaa..bhasha sashakat

    जवाब देंहटाएं
  9. Mujh se itana sneh rakhane ke liye hardik aabhar Joya ji... Aapke sneh bhare shabdon se abhibhoot hoon. Happy new year Joya ji .

    जवाब देंहटाएं
  10. राग-द्वेष , वैर-भाव का
    मनोमालिन्य घटता रहे ।।
    वाह!!!
    बहुत ही खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर सराहनीय प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार संजय जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"