Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

बुधवार, 9 सितंबर 2020

'सांझ"

                              










सांध्य सुंदरी बन के अप्सरा
भू लोक पर आई
देख धरा का रूप सलोना
मन ही मन सकुचाई

हरित रंग की ओढ़े चूनर
सतरंगी फूलों के झूमर
मादक सी पछुआ बयार से
धान फसल हरषाई

इसकी भोर का क्या है कहना
ये तो आठ प्रहर में गहना
पंछी चहके अमराइयों में
सूर्य किरण इठलाई

गोवत्सों की कंठ घंटियाँ
गायों की स्नेहिल गलबहियाँ
 देख देख वसुधा का आंगन 
उसने सुधबुध बिसराई

सांध्य सुंदरी बन के अप्सरा
भू लोक पर आई
देख धरा का रूप सलोना
मन ही मन सकुचाई


🍁🍁🍁
【चित्र : गूगल से साभार】

26 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु स्नेहिल आभार सखी ।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार सर ।

      हटाएं
  3. वाह बहुत सुंदर प्रकृति चित्रण कोमल मधुरिम शब्दावली ।
    मनोरम रचना मीना जी मोहक सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सृजन को सार्थक करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदय से असीम आभार कुसुम जी ।

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार सर ।

      हटाएं
  5. वाह !!बहुत ही सुंदर सृजन दी 👌
    मन को छूता हुआ।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु स्नेहिल आभार अनीता ।

      हटाएं
  6. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" गुरुवार 10 सितम्बर 2020 को साझा की गयी है............ पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "पाँच लिंकों का आनन्द" में रचना साझा करने के लिए सादर आभार यशोदा जी ।

      हटाएं
  7. प्रकृति का बड़ा ही मनोरम वर्णन,ऐसा दृश्य जो अब बहुत कम देखने को मिलता है,मनभावन सृजन ,सादर नमन मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सृजन को सार्थक करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हृदय से असीम आभार कामिनी जी । स्नेहाभिवादन 🙏

      हटाएं
  8. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, मीना दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु स्नेहिल आभार ज्योति जी ।

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार सर ।

      हटाएं
  10. वाह!!!
    प्रकृति की सुन्दरता पर बहुत ही मनभावन लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सृजन को सार्थक करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए
      लिए स्नेहिल आभार सुधा जी !

      हटाएं
  11. सान्झ की लाली को बाखूबी रँगों और शब्दों के द्वारा उतरा है यहाँ ...
    बहुत लाजवाब रचना ....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार नासवा जी!

      हटाएं
  12. अति सराहनीय सांझ-वर्णन , बहुत सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं
  13. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु बहुत बहुत आभार ..आपके अनमोल शब्दों से सृजन का मान बढ़ा 🙏

    जवाब देंहटाएं
  14. उत्साहवर्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार सर!

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"