Followers

Copyright

Copyright © 2022 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

गुरुवार, 21 दिसंबर 2017

“शीत ऋतु”

(This image has been taken from google)

गीली सी धूप में
फूलों की पंखुड़ियां
अलसायी सी
आँखें खोलती हैं ।

ओस का मोती भी
गुलाब की देह पर
थरथराता सा
अस्तित्व तलाश‎ता है ।

कोहरे की चादर में
लिपटे घर-द्वार और
पगडंडियां भी सहमी
ठिठुरी सी लगती हैं ।

रक्तिम प्रभा मण्डल  में
मन्थर गति से उदित
मार्तण्ड भी शीत के कोप से
कांपते से दिखते हैं ।

   XXXXX

33 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! बिंबों और प्रतीकों में ख़ूबसूरती से भावों को लपेटे हुए आई है एक ताज़ातरीन अभिव्यक्ति आपकी शीत ऋतु का नर्म एहसास लिए।
    बधाई एवं शुभकामनाएं। लिखते रहिए।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ऊर्जा‎वान एवं शुभेच्छा सम्पन्न प्रतिक्रिया‎ हेतु हृदयतल से आभार रविन्द्र सिंह जी .

      हटाएं
  2. बहुत मोहक कविता शरद ऋतू के स्वागत में
    शरद ऋतु की मनोवृत्तियो को; उसके बदलाव और सामाजिक स्तर पर हुए परिवर्तन को रेखांकित करती ....:)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर‎ व्याख्या‎त्मक ऊर्जावान टिप्पणी हेतु तहेदिल से धन्यवाद संजय जी .

      हटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आप की रचना को शुक्रवार 22 दिसम्बर 2017 को लिंक की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नमस्ते श्वेता जी !
      "पाँच लिंकों का आनन्द‎" पर मेरी रचना को सम्मिलित कर सम्मान‎ प्रदान करने के लिए‎ हृदयतल से आभार .

      हटाएं
  4. शीत ऋतु के समान ही मन को शीतलता व कोमलता प्रदान करती सुंदर रचना ! शब्द शिल्प बहुत सुंदर है !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहनीय उत्साहवर्धित करती टिप्पणी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद मीना जी .

      हटाएं
  5. वाह ! बहुत सुंदर रचना ! लाजवाब प्रस्तुति आदरणीया ।

    जवाब देंहटाएं
  6. शीत ऋतू को प्रतीकात्मक ढंग से परिभाषित करती सुंदर रचना -- बधाई एवं शुभकामना आदरणीय मीना जी --सस्नेह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्नेहिल सी प्रतिक्रिया‎ के लिए‎ बहुत बहुत‎ धन्यवाद रेणु जी .

      हटाएं
  7. बहुत सुन्दर....
    वाह!!!
    लाजवाब...

    जवाब देंहटाएं
  8. शीत की कल्पना में अनेक बिम्ब उभारे हैं इस रचना में ...
    बहुत ही ठिठुरती हुयी रचना ... लाजवाब ...

    जवाब देंहटाएं
  9. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (30-12-2020) को "बीत रहा है साल पुराना, कल की बातें छोड़ो"  (चर्चा अंक-3931)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर मेरी रचना को सम्मिलित कर मान‎ प्रदान करने के लिए‎ हृदयतल से आभार सर !

      हटाएं
  10. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को मान मिला। हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  11. वाह मीना जी...ओस का मोती भी
    गुलाब की देह पर
    थरथराता सा
    अस्तित्व तलाश‎ता है...क्या खूब ल‍िखा है...''ओस और गुलाब'' के बहाने जीवन और इसके अस्त‍ित्व को पूरा बखान द‍िया आपने

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्नेहिल सारगर्भित प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली..हृदयतल से आभार अलकनंदा जी!

      हटाएं
  12. कोहरे की चादर में
    लिपटे घर-द्वार और
    पगडंडियां भी सहमी
    ठिठुरी सी लगती हैं ।

    बहुत सुंदर शीतऋतु वर्णन 🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं

मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार 🙏

- "मीना भारद्वाज"