Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

"दुनियादारी"

                    दुनियादारी का गोरखधन्धा ,
अपने आप में बड़ा अजीब है ।
गाठें पहले भी लगती थी ,
खेल-कूद या चीजों के बंटवारे पर ।।
राग-द्वेष मन के साथ , 
आँखों में उतर आया करता था ।
मगर गिरहें खुलने में ,
वक्त ही कहाँ लगता था ??
खुल ही जाती थीं कभी ,
तारों की छांह तले आंगन में ।
तो कभी उलाहनों के बीच ,
छिपते-छुपाते माँ के आँचल में ।।
मन का मैल एक थाली में खाते हुए , 
कब का धुल जाया करता था ।
बढ़ती उम्र‎ के साथ-साथ ,
सोचों के दायरे सिमटने लगे हैं ।।
एक घर-आंगन वाले संबंध ,
वैचारिक दूरियों से दरकने लगे हैं ।
मन में बंधी गिरहें  भी खोलने से ,
अब कहाँ खुलती हैं ?‎
राग-द्वेष की परतें भी ,
धोने से कहाँ धुलती हैं ??
बड़प्पन की दुनियादारी से ,
बचपन ही अच्छा था ।
उस वक्त जो भी था जैसा भी था ,
सब अपना और सच्चा था ।।
★★★

10 टिप्‍पणियां:

  1. भावों का गंभीर सफ़र। मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति हमें आगे और पीछे को लेकर सोचने के लिए भाव-भूमि तैयार करती है।
    बधाई एवं शुभकामनाएं आदरणीया मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत‎ बहुत‎ धन्यवाद रविन्द्र सिंह‎ जी .

      हटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना मीना जी👌

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/01/50.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "मित्र मंडली" में सम्मिलित करने के लिए‎ बहुत बहुत‎ धन्यवाद राकेश कुमार‎ जी .

      हटाएं
  4. खूबसूरत प्रस्तुति नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ मीना जी:(

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत‎ बहुत‎ धन्यवाद संजय जी .आपको भी परिवार सहित नववर्ष की हार्दिक शुभ‎कामनाएँ एवं बधाई :)-

    जवाब देंहटाएं
  6. सच दर्द। अयन किया है शब्दों से ...
    अब सब बातें सिल में रख लेते हैं ... गाँठें खुलती नहीं ....

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"