Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

रविवार, 1 जुलाई 2018

"परामर्श"

इतने गर्वीले कैसे हो चन्द्र देव ?
कितना इतराते हो पूर्णिमा के दिन ।

क्या उस वक्त याद नहीं रहते बाकी के पल छिन ?
पूरे पखवाड़े कलाओं के घटने बढ़ने के दिन ।

सुख-दुःख , हानि-लाभ तो सबके साथ चलते हैं ।
तुम्हारी देखा देखी में सीधे इन्सान भी इतरते हैं ।।

तुम तो देवता ठहरे , सब कुछ झेल लेते हो ।
हम इन्सानों को , दर्प की गर्त में ढकेल देते हो ।।

चंचलता छोड़ो देव तुम मान करो कुछ देवत्व का ।
फिर सीखेंगे हम भी निज अहं त्याग करने का ।।

                   XXXXXXX

6 टिप्‍पणियां:

  1. वा...व्व...मीना, तुमने तो अहंकार को स्पष्ट करने ले लिए चंद्रमा को भी लपेट लिया। बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  2. ये चाँद बेदर्दी है ...
    कहाँ रहता है इसमें देवत्व .... ये तो प्रेमी के दिल का आभास है ...
    हाँ देवता होता तो गुरूर न होता ...
    इस नज़र से भी चाँद को बाखूबी लिखा है आपने ...

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बहुत धन्यवाद नासवा जी । आपकी प्रतिक्रिया सदैव उत्साहवर्धन करती हैं ।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"