Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 27 जुलाई 2018

"शिव स्तुति"

श्रावण मास…., भगवान शिव की आराधना का पावन महिना । शिव भक्त पूरे माह श्रद्धा से  भोले भण्डारी का पूजन-अर्चन करते हैं , पवित्र नदियों से कांवड़ लाकर जलाभिषेक करते हैं । कांवड़ियों  के “बम बम लहरी” “जै जै शिव शंकर” नाद से शिव मंदिर और कांवड़ियों के यात्रा पथ गुंजायमान हो उठते हैं । देवों के देव त्रिनेत्र धारी भगवान शिव को समर्पित एक छोटी सी स्तुति -------

करुणानिधि हो , जगपालक हो ।
विनती सुन लो , शिव शंभु प्रभो ।।

निज जान कृपा , रखना प्रभु जी ।
कर जोरि खड़े , करते विनती ।।

तुम ही जग की , रचना करते ।
भव सागर पार , लगा सकते ।।

अपराध क्षमा ,करना शिव जी ।
तुम दीनबन्धु , शशिशेखर जी ।

विषपान किया उपकार किया ।
देवों को अभय का दान दिया ।।

प्रकृति के रक्षक , पशुपतिनाथ ।
गौरी शंकर , हम तेरे दास ।।

निज सेवक जान , कृपा करना ।
आशीष सदा , हम पर रखना ।।


      XXXXXXX

22 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 29 जुलाई 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अति आभार यशोदा जी इस मान के लिए । "पांच लिंक़ो का आनंद में" से जुड़ना मेरे लिए सदैव हर्ष की बात होती है । बहुत बहुत आभार मेरी रचना को स्थान देने के लिए ।

      हटाएं
  2. ऊँ नमः शिवाय...🙏
    हर हर महादेव।
    बहुत सुंदर मनोहारी रचना मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हर हर महादेव..🙏
      आपकी प्रतिक्रिया देख बहुत खुशी होती है , बहुत बहुत आभार श्वेता जी ।

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर रचना 👌 जय शिव शंकर 🙏

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हर हर महादेव अनुराधा जी 🙏 स्तुति सराहना के लिए हृदयतल से धन्यवाद ।

      हटाएं
  4. सुन्दर भक्तिमय रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बहुत धन्यवाद ओंकार जी ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत पावन शिव स्तुति मीना जी।
    जय जय भोलेनाथ।

    जवाब देंहटाएं
  7. जय भोलेनाथ 🙏 कुसुम जी ,स्तुति सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. 23/07/2018 को https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2018/07/80.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार राकेश जी "मित्र मंडली" में रचना को मान देने के लिए ।

      हटाएं
  9. शिव के चरणों में अर्पित निवेदित भाव का आभार!रुद्राष्टध्यायी का पंचम अध्याय पठनीय है. आपकी मंजुल भक्ति भावनाओं को सादर नमन और प्रणाम!!!

    जवाब देंहटाएं
  10. शिव भक्त पूरे माह श्रद्धा से बोले भण्डारी का पूजन-अर्चन करते हैं
    यहाँ पर भोले लिखना था सुधार लीजिये मीना जी
    श्रावण मास…और शिव की आराधना भोले भण्डारी के लिए बहुत पावन भक्तिमय स्तुति पढ़कर आनंद आ गया मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. संजय जी तहेदिल से धन्यवाद गलती बता कर ठीक करवाने के लिए 🙏 🙏 स्तुति की सराहना के लिए भी बहुत बहुत धन्यवाद :-)

      हटाएं
  11. वाह प्रिय मीना जी -- सावन का महीना और भोलेनाथ की अभ्यर्थना बहुत ही श्रद्धासे लिखी गयी रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई | बाबा भोलेनाथ आप पर अपनी क्रिया बनाये रखे | सस्नेह --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया से मन अभिभूत हो गया रेणु जी ।

      हटाएं
  12. बहुत ही भक्तिपूर्ण रचना मीना जी ... बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदयतल से धन्यवाद रचना की सराहना एवं मनोबल बढ़ाने के लिए🙏🙏

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"