Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 27 सितंबर 2019

"मुक्तक"

"मुक्तक"
( 1 )
मानव की यह आदत पुरानी है नई नहीं है ।।
सीखा नहीं कल से कुछ क्या ये सही है ।।
दिवास्वप्नों में खोया यह भी नही जानता ।
आने वाले कल की नींव आज पर धरी है ।।
(2)
तीखे तंज सहन करना सीख लोगे ।
समझो आधी दुनियां जीत लोगे ।।
वक्त सीखा देता है जीने का ढंग ।
मार्ग के कंटक भी स्वयं बीन लोगे ।।
(3)
सज़दे में झुकता सिर ऐसे शूरवीरों के आगे
कर देते तन-मन न्यौछावर मातृभूमि आगे
जन्म-मृत्यु के चक्र में बंधा हुआ हर कोई
मृत्यु भी नमन करती ऐसे वीरों के आगे
★★★

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर और सार्थक मुक्तक!
    जीवन की बेहतरी के नुस्खे
    अप्रतिम अभिव्यक्ति मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी उत्साहवर्धन प्रतिक्रिया सदैव प्रेरक होती है कुसुम जी।हृदयतल से आभार ।

      हटाएं
  2. वाह..क्या सार लिये मुक्तक लिखे हैं दी..बहुत अच्छे हैं।

    तीखे तंज सहन करना सीख लोगे ।
    समझो आधी दुनियां जीत लोगे ।।
    वक्त सीखा देता है जीने का ढंग ।
    मार्ग के कंटक भी स्वयं बीन लोगे ।
    बहुत सराहनीय👍

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ऊर्जात्मक सराहना के लिए हृदय से आभार श्वेता !

      हटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (28-09-2019) को " आज जन्मदिन पर भगत के " (चर्चा अंक- 3472) पर भी होगी।


    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर मेरी रचना को साझा करने के असीम आभार प्रिय अनीता ।

      हटाएं
  4. वीरों को सत सत नमन ,बहुत सुंदर गहरे भाव व्यक्त करती रचना मीना जी ,सादर

    जवाब देंहटाएं
  5. सराहना भरी प्रतिक्रिया के लिए हृदय से आभार सखी !

    जवाब देंहटाएं
  6. तीखे तंज सहन करना सीख लोगे ।
    समझो आधी दुनियां जीत लोगे ।।
    वक्त सीखा देता है जीने का ढंग ।
    मार्ग के कंटक भी स्वयं बीन लोगे ।।


    hmmm..main nhi seekh paayi ab tak तीखे तंज सहन करना aur merii har smamsyaa ki jadh bhi yhii he....darshaati nhi...ye jatatai hun koi frk nhi pdhaa mujhe magr ...antrman ...man ke bheetar....ye tanj jehan bnaate jaate hain

    hmmm
    aur yhii jine ka dhang ban gya he

    bahut hi achhe muktak he meena ji

    bdhaayi swikaare

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sikhana aasaan Kahan hota hai Joya ji..seekh lenge tabhi to sukh se jeena sikh paayenge...bahut bahut aabhar snehil pratikriya ke liye.. yunhi Sneh banaayen rakhen.

      हटाएं
  7. तीनों मुक्तक लाजवाब ... बात को प्रखरता से रखते हुए ...
    जीवन में हर चीज़ की आदद होनी अच्छी है ... तंज़ सह लेना और आगे बढ़ना ... यही जीवन है ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना भरी लेखन को सार्थकता देती प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार नासवा जी ।

      हटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर सार्थक सारगर्भित मुक्तक...
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना भरी लेखन को सार्थकता देती प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार सुधा जी ।

      हटाएं
  9. जन्म-मृत्यु के चक्र में बंधा हुआ हर कोई
    मृत्यु भी नमन करती ऐसे वीरों के आगे
    ....गहरे भाव व्यक्त करते लाजवाब मुक्तक मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी अनमोल प्रतिक्रिया लेखन को सार्थकता प्रदान करती है असीम आभार संजय जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"