Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 13 सितंबर 2019

"खामोशी"

खामोशी का मतलब
बेज़ारी नही होता
और मूर्खता तो कभी नही
कुदरत ने  हमें बख़्शी है
बोलने के लिए एक जुबान
और सुनने को  दो कान

सुनना और सुन कर गुनना
अहम् अंश हैं जीवन के
नीरवता में फूटता संगीत
देता सीख व्यवहार की
और फूंकता है प्राण
सुप्तप्राय: नीरस मन में

एकांत की शांति में
 द्रुम-लताओं के बीच से
बहता मंद समीर
कानों में रस घोलता
पखेरुओं का मीठा कलरव
मोती सदृश बरखा की बूँदें
धरा पर जब
मद्धिम मद्धिम गिरती हैं
बस खामोशियाँ 
गुनगुनाने लगती हैं

★★★★★
(चित्र-गूगल से साभार)











30 टिप्‍पणियां:

  1. निश्चित ख़ामोशी वह पड़ाव है, जहाँ तनिक ठहर कर हम चिंतन करते हैं। अपने और पराये की पहचान करते हैं और फिर इससे बाहर निकल मंद-मंद मुस्कुराते हुये जीवन को सार्थक करते हैं।
    सार्थक चिन्तन को दर्शाती रचना।
    सादर प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सारगर्भित प्रतिक्रिया द्वारा उत्साहवर्धन के लिए आपका बहुत बहुत आभार ।

      हटाएं
  2. वाह बेहतरीन रचनाओं का संगम।एक से बढ़कर एक प्रस्तुति।
    Bhojpuri Song Download

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी हौसला अफजाई करती प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार ।

      हटाएं
  3. जी सही का कई बार प्रकृति के संगीत को सुनने के लिए खुद का खामोश होना जरूरी होता है। सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना भरी प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक धन्यवाद
      विकास जी।

      हटाएं
  4. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (15-09-2019) को "लेइसी लिखे से शेयर बाजार चढ़ रहा है " (चर्चा अंक- 3459) पर भी होगी।


    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच में रचना को सम्मिलित करन के लिए हार्दिक आभार अनीता जी ।

      हटाएं
  5. आपकी लिखी रचना "पाँच लिंकों का आनन्द" के हम-क़दम के 88 वें अंक में सोमवार 16 सितंबर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमकदम के 88वें अंक में रचना को साझा करने के लिए बहुत बहुत आभार रविन्द्र जी ।

      हटाएं
  6. द्रुम-लताओं के बीच से
    बहता मंद समीर
    कानों में रस घोलता
    पखेरुओं का मीठा कलरव।

    वाह मीना जी अनुपम सृजन, अभिनव भाव लिए बहुत सुंदर रचना।
    खामोशी सच मनन और चिंतन की पृष्ठभूमि है।
    सार्थक।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका उत्साहवर्धन लेखन के प्रति रूझान द्विगुणित कर देता है कुसुम जी । बहुत बहुत आभार । सस्नेह...

      हटाएं
  7. निश्चित ख़ामोशी वह पड़ाव है, जहाँ तनिक ठहर कर हम चिंतन करते हैं। अपने और पराये की पहचान करते हैं और फिर इससे बाहर निकल मंद-मंद मुस्कुराते हुये जीवन को सार्थक करते हैं।
    सार्थक चिन्तन को दर्शाती रचना।
    सादर प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. पुनः बहुत बहुत आभार आपका । शुभाशीष आपकी लेखनी निरन्तर सफलता और प्रगति के आयाम तय करती रहे ।

      हटाएं
  8. खामोशी गुनगुनाती है...
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  9. बस खामोशियाँ
    गुनगुनाने लगती हैं
    बहुत ही सुंदर रचना मीना जी ,कभी अभी खामोशियाँ भी गुनगुनाने लगती हैं ,सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. कामिनी बहन आपकी उपस्थिति बहुत बड़ी सुखानुभूति है । बहुत बहुत आभार उत्साहवर्धन हेतु ।

      हटाएं
  10. एकांत की शांति में
    द्रुम-लताओं के बीच से
    बहता मंद समीर
    कानों में रस घोलता
    पखेरुओं का मीठा कलरव
    मोती सदृश बरखा की बूँदें
    धरा पर जब
    मद्धिम मद्धिम गिरती हैं
    बस खामोशियाँ
    गुनगुनाने लगती हैं!
    बहुत सुंदर भाव्प्र्ण सृजन प्रिय मीना जी | सच में कभी कभी खामोशियों में ये सब चीजें चार चाँद लगाकर उसे यादगार बना देती हैं | ख़ामोशी के मनभावन रंग से रंगी रचना के लिए हार्दिक बधाई प्रिय सखी |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर सार्थक और आपकी अपनत्व से सरोबार प्रतिक्रिया से बहुत उत्साहवर्धन होता है प्रिय रेणु बहन । सस्नेह आभार ।

      हटाएं
  11. खामोशी एक चिंतन है जो स्वतः ही स्वय के माध्यम से कानों में गुनगुनाती ही ...इसका आनद लेना ही अनुभव है जो सीखने से आ जाता है ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसलाअफजाई के लिए तहेदिल से आभार नासवा जी ।

      हटाएं
  12. hmmmm...pr moun ko smjhnaa bhi bahut zaruri he....moun se vartaalaap kne waalon ki taqleef koi nhi smjh skta kyunki moun ko smjhnaa bahut mushkil hota he bahuton ke liye

    hmm..bahut achhi rchnaa

    जवाब देंहटाएं
  13. Moun Apne aatmbal ke liye .. Insaan apne aap me santulit hoga sarthak soch rakhega aaj nahi to kal ... Dusare uske moun Ko samjhenge ..aisa Mai sochati hoon. Apka Sneh atulneey hai mere liye. Bahut bahut aabhar Joya ji .

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"