Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

सोमवार, 4 नवंबर 2019

"जिन्दगी"


वक्त की शाख पर
ढेरों लम्हें उगे थे
झड़बेरियों मे लदे बेरों सरीखे
कुछ-कुछ खट्टे
कुछ -कुछ मीठे
लम्हा-लम्हा चुन लिया चिड़िया के चुग्गे सा
भर लिया दामन में
और बस..बन  गई
अनुभूत पलों में पगी खट्टी- मीठी जिन्दगी

★★★

28 टिप्‍पणियां:

  1. "झड़बेरियों मे लदे बेरों सरीखे" वाह बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत आदरणीय 🙏 आपकी अनमोल प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक धन्यवाद ।

      हटाएं
  2. ज़िन्दगी में दोनों एहसास का होना जरूरी है ... कई बार एक ही स्वाद की अति ख़राब कर देती है मज़ा ...

    जवाब देंहटाएं
  3. सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार नासवा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  4. कड़वे और मीठे अहसासों से ही बनती है जिंदगी....और तब हम काबिल होते है दूसरों को जिंदगी जीने के गुण सिखाने के लिए

    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अश्विनी जी ।

      हटाएं
  5. सार और भाव लिए उम्दा रचना रच दिये हो।

    पर कहते हैं कि कड़वे अहसास बगैर स्वाद के महत्व का पता नहीं चलता मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जीवन का सार इन्हीं अहसासों में सिमटा हुआ। होता है रोहित जी ! बहुत बहुत आभार रचना सराहना हेतु ।

      हटाएं
  6. अनुभूत पलों में पगी खट्टी- मीठी जिन्दगी
    वाह!!!
    बहुत सटीक सार्थक लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सुन्दर सार्थक प्रतिक्रिया के लिए हृदय से आभार सुधा जी ।

      हटाएं
  7. और बस..बन गई
    अनुभूत पलों में पगी खट्टी- मीठी जिन्दगी
    वाह!!!
    बहुत सुन्दर, सार्थक सारगर्भित सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन के लिए सस्नेह आभार सुधा जी ।

      हटाएं
  8. बहुत खूब मीना जी जीवन इन्ही खट्टी मीठी यादों का पिटारा तो हैं ,चंद शब्दों में बहुत कुछ छिपा हैं ,सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदय की असीम गहराईयों से आभार कामिनी बहन आपकी अनमोल सराहना भरी प्रतिक्रिया का । सस्नेह वन्दे ।

      हटाएं
  9. काम शब्दों में बहुत ही सारगर्भित लेखन मीना दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार ज्योति बहन । आपकी प्रतिक्रिया सदैव उत्साहवर्धन करती है ।

      हटाएं
  10. आहा 

    बड़े दिनों बाद कुछ ऐसा पढ़ा जिसका स्वाद , बचपन में मिलने वाली उन छोटी छोटी गोलियों जैसा हो---- खट्टा मिट्ठा चटकारे भरा और मन को सकूं देने वाला भी। ..ताज़गी भरा 
    बधाई  

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सुन्दर सराहना भरी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार
      ज़ोया जी ।

      हटाएं
  11. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (10 -11-2019) को दोनों पक्षों को मिला, उनका अब अधिकार (चर्चा अंक 3516) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित हैं….
    *****
    रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच में मेरे सृजन को मान देने के लिए हार्दिक आभार रविन्द्र जी ।

      हटाएं
  12. वाहहह बेहतरीन प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  13. वाह !बेहतरीन सृजन आदरणीया मीना जी.
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  14. उत्साहवर्धन के लिए स्नेहिल आभार अनीता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  15. सुन्दर कृति,मैम। खट्टे मीठे अनुभवों से मिलकर ही तो ज़िन्दगी बनती है। 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने.., हौसला अफजाई के लिए हार्दिक आभार विकास जी

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"