Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

रविवार, 26 जनवरी 2020

"हाइकु"


🇮🇳
शुभ्र गगन~
गूंजे जयहिंद से
धरा अखंड ।..

पुनीत पर्व~
जन गण मन में
भारतवर्ष ।..


सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँँ
एवं बधाई 🙏🙏 

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर सामायिक सृजन ।
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं सहित असीम आभार कुसुम जी ।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. आभार रोहित जी ।गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ।
      जय हिन्द ।

      हटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (27-01-2020) को 'धुएँ के बादल' (चर्चा अंक- 3593) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    *****
    रवीन्द्र सिंह यादव

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर सृजन को मान देने के लिए हार्दिक आभार
      आदरणीय ।

      हटाएं
  4. समसामयिक लाजवाब हायकू
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. Wahhhhhhhh. बहुत सुन्दर हाइकु मीना जी 🙏 🙏

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सुन्दर ऊर्जावान प्रतिक्रिया से मेरे लेखन को सार्थकता मिली हृदयतल से आभार सुधा जी 🙏🙏

      हटाएं
  6. सुन्दर हाइकु मीना
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँँ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी गणतंत्र पर्व की अनन्त शुभकामनाएं संजय जी..
      आप की अमूल्य प्रतिक्रिया से लेखन को सार्थकता मिली।

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर जयघोष सादर नमन मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया सदैव मेरा उत्साहवर्धन करती है...सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए असीम आभार कामिनी जी।

      हटाएं
  8. सुन्दर हाइकु।  गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई। 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार विकास जी ।आपको भी गणतांत्रिक दिवस की बहुत बहुत बधाई ।

      हटाएं
  9. बहुत प्यारे हाइकू मीना जी | इस विधा में अपना तो हाथ तंग है पर आपने खूब अच्छे हाइकू लिखे हैं | सस्नेह --

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप बहुत अच्छा लिखती हैं रेणु जी । मैनें कहीं से पढ़़े रविन्द्रनाथ टैगोर और अज्ञेय के लिखे हाइकु . रूचि बढ़ी लिखती रही..बाद मे पता चला बहुत त्रुटि है हाइकु लेखन में...बस..अच्छा लगता है सो लिखती रहती हूँ कभी कभी . आभार आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया का । सस्नेह..

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"