Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

बुधवार, 14 अक्तूबर 2020

"साथी"

                  


जीवन नहीं मधुमास साथी ।  

कठिन बहुत अभ्यास साथी ।।


सुख-दुख  दोनों जीवन पहलू ।

अब तक का इतिहास साथी ।।


छम-छम बरसें बूंदें घन से ।

मन में फिर भी प्यास साथी ।।


होती नहीं हर चाहत पूरी ।

मत बन इनका दास साथी ।।


गांव बसा यादों का मन में ।

उसमें अपना वास साथी ।।


***

【 चित्र - गूगल से साभार 】



एक बार तरही ग़ज़ल के बारे में पढ़ते हुए राहत इन्दौरी जी की कलम से निसृत - तू शब्दों का दास रे जोगी..पढ़ी जो बाद में -जोग कठिन अभ्यास रे जोगी..में ढलती चली गई . एक अकिंचन प्रयास मेरी ओर से ।

      

28 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से उत्साहवर्धन हेतु हार्दिक आभार आ. लोकेश नदीश जी ।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार सखी ।

      हटाएं
  3. वाह !लाजवाब दी ।
    हर बंद सराहना से परे ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु सस्नेह आभार अनीता ।

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन हेतु हार्दिक आभार शिवम् जी।

      हटाएं
  5. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15.10.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच की चर्चा में सृजन को सम्मिलित करने हेतु सादर आभार आ. दिलबाग सिंह जी ।

      हटाएं
  6. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर गुरुवार 15 अक्टूबर 2020 को साझा की गयी है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  7. "पांच लिंकों का आनन्द" पर रचना साझा करने के लिए सादर आभार आ. रविंद्र सिंह जी ।

    जवाब देंहटाएं
  8. होती नहीं हर चाहत पूरी ।
    मत बन इनका दास साथी ।।

    –बेहद उम्दा भावाभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ । हार्दिक आभार दी !

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  10. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  11. गांव बसा यादों का साथी
    उसमें अपना वास साथी।

    अप्रीतम अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  12. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार सर!

    जवाब देंहटाएं
  13. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार ज्योति जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"