Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

सोमवार, 26 अक्तूबर 2020

"ज्योत्सना का रात पर पहरा लगा सा है"

                               

ज्योत्सना का रात पर , पहरा लगा सा है ।

आसमां का रंग भी , उजला-उजला सा है ।।


पत्तियों  में खेलता ,एक शिउली का फूल ।

डालियों के कान में ,कुछ कह रहा सा है ।।


हट गया  मुखौटा ,जो पहने हुए थे वो ।

तब से मन अपना भी ,कुछ भरा-भरा सा है ।।


दर्द बढ़ जाए जब ,सीमाओं से परे ।

लगता यही कि वक्त ,फिर ठहरा हुआ सा है ।।


हो थमी जिसके हाथों ,अपने समय की डोर ।

आने वाला उसी का कल ,खुशनुमा सा है ।।


***

28 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (27-10-2020 ) को "तमसो मा ज्योतिर्गमय "(चर्चा अंक- 3867) पर भी होगी,आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच की चर्चा में सृजन को सम्मिलित करने हेतु हृदयतल से आभार कामिनी जी!

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर मंगलवार 27 अक्टूबर 2020 को साझा की गयी है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. "पांच लिंकों का आनन्द" पर रचना साझा करने के लिए सादर आभार आ.रवीन्द्र सिंह जी ।

    जवाब देंहटाएं
  5. हो थमी जिसके हाथों ,अपने समय की डोर ।
    आने वाला उसी का कल ,खुशनुमा सा है ।

    –सत्य सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार दी 🙏

      हटाएं
  6. आदरणीया मैम,
    बहुत ही सुंदर संदेश देती हुई रचना।
    "हो थमी जिसके हाथों ,अपने समय की डोर ।
    आने वाला उसी का कल ,खुशनुमा सा है ।"
    बहुत ही अक्च्छा संदेश विशेष कर हमारे जैसे विद्यार्थियों के लिए। सुंदर रचना के लिए ह्रदय से आभार व सादर नमन। आपसे कृपया पर भी आएं। आपके प्रोत्साहन एवं आशीष के लिए आभारी रहूंगी।
    आप मेरे नाम तो मेरे प्रोफाइल पर आ जाएँगी. वहां मेरे ब्लॉग के नाम कवितरंगिनी पर क्लिक करियेगा। आप मेरे ब्लॉग पर पहुंच जाएँगी। पुनः हार्दिक आभार।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत अनन्ता जी मंथन पर आपका🌹 बेहद खुशी हुई आपका परिचय जान कर । आप विद्यार्थी होने के साथ साथ बहुमुखी प्रतिभा की धनी हैं । मैं आपके ब्लॉग पर आई थी एक बार और आपका लिखा पढ़ा भी । आपके सृजन में कमाल की भावाभिव्यक्ति होती है । आपकी सराहना भरी प्रतिक्रिया मेरे लिए बहुत मायने रखती है । हार्दिक आभार अनन्ता :-) आपकी रचनाएं पढ़ने आती रहूंगी । आमन्त्रण के लिए तहेदिल से शुक्रिया ।

      हटाएं
  7. मीना जी , बहुत गजब ल‍िखती हैं आप...क‍ि

    हट गया मुखौटा ,जो पहने हुए थे वो ।
    तब से मन अपना भी ,कुछ भरा-भरा सा है ।।...वाह

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ अलकनंदा जी । हार्दिक आभार आपका ।

      हटाएं
  8. हो थमी जिसके हाथों ,अपने समय की डोर ।

    आने वाला उसी का कल ,खुशनुमा सा है ।। अतुलनीय रचना - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ हार्दिक आभार एवं सादर नमस्कार .

      हटाएं
  9. वाह !गज़ब दी प्रत्येक बंद कुछ पूछता-सा।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन सार्थक हुआ..सस्नेह आभार अनीता🌹

      हटाएं
  10. पत्तियों में खेलता ,एक शिउली का फूल ।
    डालियों के कान में ,कुछ कह रहा सा है ।।

    शिउली के फूल का एकदम अभिनव प्रयोग...

    वाह, बहुत सुंदर ग़ज़ल मीना जी,
    स्नेह सहित,
    - डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
  11. आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता व मान मिला ।
    हृदयतल से बहुत बहुत आभार वर्षा जी 🙏

    जवाब देंहटाएं
  12. हट गया मुखौटा ,जो पहने हुए थे वो ।
    तब से मन अपना भी ,कुछ भरा-भरा सा है ।।
    बहुत सुंदर शब्दप्रयोग एवं अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती अनमोल प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार मीना जी!

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"