Followers

Copyright

Copyright © 2022 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

सोमवार, 14 नवंबर 2022

“त्रिवेणी”



मेघों की उदंडता अपने चरम पर है 

धरा से लेकर धरा पर ही उलीचते रहते हैं पानी..,


 अब इन्हें कौन समझाए लेन-देन की सीमाएँ ॥

🍁


इतिहास गवाह रहा है इस बात का कि 

भाईचारे में नेह कम द्वेष अधिक पलता है ..,


औपचारिकता के बीच ही पलता है सौहार्द ॥

🍁


मेरे पास हो कर भी कितने दूर थे तुम

फासला बताने को मापक भी कम लगते हैं 


उलझनों के भी अपने भंवर हुआ करते हैं 


🍁

14 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (15-11-22} को "भारतीय अनुभूति का प्राणतत्त्व -- प्राणवायु"(चर्चा अंक 4612) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर सृजन को सम्मिलित करने के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी !

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ओंकार सर !

      हटाएं
  3. गहन भाव प्रवणता सहेजे अभिनव त्रिवेणियां मीना जी।
    मन मोहक।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदय से असीम आभार कुसुम जी !आपकी स्नेहिल उपस्थिति से सृजन सार्थक हुआ।

      हटाएं
  4. तीनों त्रिवेणियों में गहरे विचार अभिव्यक्त हुए। विचार तो बहुत आते हैं पर ऐसी अभिव्यक्ति कम ही उतरती है कलम से।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदय से असीम आभार मीना जी ! आपकी स्नेहिल उपस्थिति से सृजन सार्थक हुआ।

      हटाएं
  5. हृदय से असीम आभार अमृता जी ! आपकी स्नेहिल उपस्थिति से सृजन सार्थक हुआ।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सुंदर सार्थक त्रिवेणी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को सार्थकता मिली । हृदयतल से आभार

      हटाएं

मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार 🙏

- "मीना भारद्वाज"