Followers

Copyright

Copyright © 2022 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

सोमवार, 7 नवंबर 2022

“प्रवृत्ति”



सांसारिकता की किताब में

एक धुरी पर आकर

व्यक्ति की भागम-भाग का

 रथ ठहर जाता है 

एक पड़ाव पर..,

 निवृत्ति की प्रवृत्ति को  

परिभाषित करना

 थोड़ी टेढ़ी खीर है 

क्योंकि..,

समय के रथ का पहिया

तो नहीं रूकता लेकिन 

मानव मन

आज और कल के बीच

हिलकोरे खाता..,

आ कर ठहर जाता है 

 आज की दहलीज़ पर

समय के भँवर में 

 डूबता उतराता

विरक्ति को भूल अनुरक्ति की ओर 

कब प्रवृत्त होता है ..,

उसके स्वयं के अहसासों से 

परे की बात है ॥


🍁

    

16 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (8-11-22} को "कार्तिक पूर्णिमा-मेला बहुत विशाल" (चर्चा अंक-4606) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  2. सृजन को चर्चा मंच की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी !

    जवाब देंहटाएं
  3. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के आपका बहुत बहुत आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर सार्थक सृजन सखी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के आपका बहुत बहुत आभार सखी !

      हटाएं
  5. मूर्छित मानव मन ही ऐसा है कि कठोर आघात से भी विरक्त नहीं होता। स्वीकार कर लेना ही सही है।

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी स्नेहिल उपस्थिति से सृजन को मान मिला । हृदय से असीम आभार अमृता जी !

    जवाब देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के आपका बहुत बहुत आभार भारती जी !

      हटाएं
  8. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के आपका बहुत बहुत आभार 🙏

    जवाब देंहटाएं
  9. आपकी यह अभिव्यक्ति मेरा स्वानुभूत सत्य है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. “कई बार कुछ पढ़ते हुए लगता है अपने साथ भी ऐसा हुआ था ।” यही जीवन है जितेन्द्र जी ! बहुत बहुत आभार आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया हेतु 🙏

      हटाएं
  10. विरक्ति को भूल अनुरक्ति की ओर.....
    यही बार बार लौटना कभी कभी जीने का आधार बन जाता है मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना सुखद अनुभूति है मीना जी ! हृदय से असीम आभार । सादर सस्नेह वन्दे !!

      हटाएं

मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार 🙏

- "मीना भारद्वाज"