Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 26 अगस्त 2016

"मंथन"

बादलों की चादर ओढ़े
आजकल वह बीमार सा दिखता है
हल्के नीलेपन संग
छिटपुट अश्रुकण यत्र-तत्र बिखरे
गीलेपन का अहसास दिलाते हैं

बावरा मन, मन का क्या?
मन तो खानाबदोश है
कितनी बार समझाया
पुरातन आवरण उतार देखो
सुनहरी धूप की चमक तीखी है

बर्फ भी पिघलने लगी है
मन की गाँठें खुलने लगी हैं
कागज के पुल बनने लगे हैं
रिश्तों की गठरी खोल दो
उसे भी अपनेपन की धूप दो


XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"