Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

सोमवार, 12 सितंबर 2016

“हाइकु”

हाइकु परिचय


कविता लिखने की जापानी विधा जिसमें प्रकृति सौन्दर्य के साथ भावानुभूति को विशेष स्थान दिया जाता है। प्रत्येक चरण में तीन पंक्तियाँ होती हैं जिनमें क्रमश पाँच, सात और पाँच अक्षर होते हैं। संयुक्त अक्षर एक अक्षर की गणना के अन्तर्गत आता है आकार की लघुता और पंक्तियों की पूर्णता हाइकु कविता का मुख्य गुण है।


(1)
"खामोशी"

शान्त जलधि
खामोशी की चादर
नीरव रात

मैं और तुम
सागर तट पर
विचार मग्न

ठंडी बयार
                 हरहराता जल                 
सैकत कूल

ऊषा किरण
क्षितिज छोर पर
जागा जीवन

XXXXX

(2)

"व्यथा"

भोर का तारा
रुनझन घंटियाँ
भागते बैल

तपती धूप
बेसहारा किसान
पेड़ की छाँव

सूना आंगन
अनगिनत आस
मन उदास

फिरे बेचारा
कुदरत का मारा
सांझ का तारा

XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"