Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

बुधवार, 14 सितंबर 2016

“पानी”

जीव उत्पति का कारक है पानी ।
पंचभूत का आधार है पानी ।।
इन्सान की आँखों की लाज है पानी ।
जीवों की प्यास बुझाता है पानी ।।
तोड़ दे अपने बांध तो विनाश है पानी ।
कहीं आग बुझाता है तो कहीं आग लगाता है पानी ।।

2 टिप्‍पणियां:


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"