Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शनिवार, 4 फ़रवरी 2017

“हवाएँ”

हवाएँ नीरव सी फिज़ा में
निस्तब्ध पेड़ों की पत्तियों को
जब छू कर  गुजरती हैं तो
कानों में कुछ कहती हैं ।

हवाएँ जब बाँस के झुरमुटों से
गुजरती हैं तो बाँसुरी की
मादक  तान  बनकर
सांसों में महक भरती है ।

समुद्र  की गिरती -उठती
लहरों से करती हैं अठखेलियाँ
कभी जलतरंग सी बजती
कभी नाहक शोर करती हैं ।

जीर्ण भग्नावशेषों से गुजरती ये
तन में सिहरन भरती
ना जाने कितनी दास्तानों का जिक्र
अपनी उपस्थिति संग करती हैं ।

×××××

2 टिप्‍पणियां:


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"