Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 7 अप्रैल 2017

"क्षणिकाएँ"

(1)
सीधी सरल बातें
शब्दों की जुगलबंदी में ढल कर
कभी गीत तो कभी‎ कविता बन कर
मन को बहला जाती हैं‎ ।
यही बातें जब सतसइयां के दोहरे बन कर
तीर का काम करती हैं तो
तुलसीदास जी से
रामचरित मानस लिखा जाती हैं ।।

(2)
आँखों के कोर गीले से हैं
मन का कोई कोना भी भीगा ही होगा ।
जुबान पर इतना रूखापन
लगता है, मुद्दतों से पानी नही बरसा ।।


XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"