Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

सोमवार, 24 अप्रैल 2017

“यूं ही”

बिना बताए,चुपचाप चले आना ।
दबे पाँवों आके,यूं ही चौंकाना ।।

नासमझी सी बातें,इशारों में समझाना ।
किताबों में बेतरतीब से,ख़तों को छुपाना ।।

उजली चाँदनी रातें,तारों संग बिताना।
बेगानों की महफिल में, बेवजह मुसकुराना ।।

बेमतलब बेमकसद,झूठी-मूठी बातें बनाना‎ ।
कहाँ सीखा यूं ही,बेकदरों से दिल लगाना ।।

XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"