Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

शनिवार, 2 सितंबर 2017

“वादा”

एक वादा था तुमसे
जो खेल खेल में कर दिया
जमीं पे तारे और पूनम के चाँद का ।
काम जरा मुश्किल सा था
मगर बात जिद्द की भी थी ।
गुलमोहर के नीचे
स्याह रात में बड़े जतन से
मुट्ठी भर जुगनू लाकर छोड़े हैं ।
तारों की चमक तो आ गई
बस पूनम के चाँद की कमी है ।
तुम्हारे आने से वह कमी भी पूरी हो जाएगी
और जो बात  अब अधूरी सी है
वो बाद में पूरी हो जाएगी ।

xxxxx

18 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 03 सितम्बर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. मेरी रचना को "पाँच लिंकों का आनन्द"‎ मे शामिल‎ कर ने के लिए‎ हृदयतल से आभार यशोदा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह्ह्ह...मीना जी,अति सुंदर, शानदार मनोभावों को सुंदर शब्दों में पिरोयी गयी आपकी रचना।

    जवाब देंहटाएं
  4. हृदयतल से हार्दिक धन्यवाद श्वेता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह!!!
    बहुत ही खूबसूरत वादा....
    लाजवाब...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत बहुत‎ धन्यवाद सुधा जी .

    जवाब देंहटाएं
  7. चाँद के आने का खूबसूरत सा इतजार और एक अधूरा सा वादा तथा इन सब के बीच मन की निमित्त आशा का बड़ी ही खूबसूरत प्रकटीकरण। जीवन्त सी यह कविता अत्यन्त ही लुभावन है। बधाई आदरणीय मीना जी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता की प्रशंसा‎ में उत्साह‎वर्धन करती प्रतिक्रिया‎ हेतु बहुत बहुत‎ धन्यवाद पुरुषोत्तम जी .

      हटाएं
  8. आदरणीय ,अतिसुन्दर सृजन उम्दा ! शुभकामनाओं सहित ,आभार ''एकलव्य"

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बहुत‎ धन्यवाद ध्रुव सिंह जी .

    जवाब देंहटाएं
  10. बिम्बों और प्रतीकों का ख़ूबसूरती से प्रयोग हुआ है। हृदयस्पर्शी रचना। न्यूनतम शब्दों में समाया है अधिकतम घनत्व। कोमल एहसासों की उत्कृष्ट अभिव्यक्ति। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  11. आपकी उत्साह‎वर्धक प्रतिक्रिया‎ के लिए‎ हार्दिक आभार रविन्द्र सिंह‎ जी।

    जवाब देंहटाएं
  12. तहेदिल से शुक्रिया मीना जी ।

    जवाब देंहटाएं
  13. बाकी है बस उनका आना ... वादा पूरा होगा जरूर होगा ...
    प्रेम के वादे जरूर पूरे होते हैं ...

    जवाब देंहटाएं

  14. रचना सराहना हेतु हृदयतल से आभार दिगम्बर जी।

    जवाब देंहटाएं
  15. एक वादा था तुमसे
    जो खेल खेल में कर दिया
    जमीं पे तारे और पूनम के चाँद का ।
    तारीफ़ के लिए शब्द तलाश रहा हूँ मीना जी सुंदर एहसास के साथ एक प्यारी सी कविता :)



    जवाब देंहटाएं
  16. उत्साह‎वर्धन करती प्रतिक्रिया‎ के लिए‎ बहुत बहुत धन्यवाद संजय जी :) ।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"