Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

शनिवार, 26 मई 2018

“कशमकश”

फुर्सत के लम्हे रोज़ रोज़ मिला नहीं करते ।
सूखे फूल गुलाब के फिर खिला नहीं करते ।।

छूटा जो  हाथ एक बार दुनिया की भीड़ में ।
ग़लती हो अपने आप से तो गिला नहीं करते ।।

आंधियों का दौर है , है गर्द ओढ़े आसमां ।
चातक को गागर नीर हम पिला नहीं सकते ।।

देने को साथ कारवां में लोग हैं बहुत ।
खोया है गर यकीं तो फिर दिला नहीं सकते ।।

सोचूं ऐ जिन्दगी तुम्हें मैं गले से लगा लूं ।
रस्मे वफ़ा-ए-इश्क से फिर हिला नहीं सकते ।।

                  XXXXX

14 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 27 मई 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. "पांच लिंक़ो का आनंद में" मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार यशोदा जी । आप के लिंक से जुड़ना मेरे लिए सदैव प्रसन्नता का विषय होता है ।

    जवाब देंहटाएं
  3. फुर्सत के लम्हे रोज़ रोज़ मिला नहीं करते ।
    सूखे फूल गुलाब के फिर खिला नहीं करते ।।
    वास्तविकता जिसमें बेपनाह दर्द है, वेहतरीन नज्म लाजवाब है मीना जी !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप की सराहना से युक्त उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया देख कर खुशी की अनुभूति होती है । आपका तहेदिल से धन्यवाद संजय जी ।

      हटाएं
  4. बहुत सुंदर नज़्म मीना जी।
    मन के सारे भाव शब्दों के साथ तैरने लगे..👌

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रचना मीना जी !
    छूटा जो हाथ एक बार दुनिया की भीड़ में ।
    ग़लती हो अपने आप से तो गिला नहीं करते ।
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' २८ मई २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार ध्रुव सिंह जी "लोकतंत्र" संवाद मंच में मेरी रचना को स्थान देने के लिए ।

      हटाएं
  7. बहुत बहुत धन्यवाद कुसुम जी ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ख़ूब ...
    लाजवाब मतला और कमाल के शेर हैं सभी ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप गज़ल लिखते हैं मुझे इस रचना पर आपकी प्रतिक्रिया से प्रसन्नता हुई । गज़ल के लिए मेरा यह पहला प्रयास है । तहेदिल से धन्यवाद आपका ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"