Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शनिवार, 10 अगस्त 2019

"मंथन"


बहुत कोशिशों 
के बाद भी
अपने आप से
बेजारी है कि
जाने का नाम 
ही नही लेती..

कभी ये नही तो
कभी वो नही
ऐसा है तो
ऐसा क्यों है
यदि नही है तो
क्यों नहीं है..

ढेर सारे
किन्तु-परन्तु
और जवाब...
उलझनों का ढेर

लम्बी खामोशी 
उसके बाद
कुछ भी न कर
पाने की लाचारी
अपने आप में
रिक्तता भरती है

 कभी कभी
अपने आप पर
भरोसा करने की 
आदत किसी सैलाब
के आने पर
टूटी दीवार सी 
ढहती है

और फिर...
खुद को  
खुद ही
समझाता है 
..मन..
गुलाब की सी
बगीची है 
..जिन्दगी..
महक है…
खूबसूरती है..

और हैं ..
असंख्य काँटें 
हर इन्सान
अपने आप में
पूरा माली
कहाँ होता है..

पाने की कोशिश
करता है पूरा
... गुलाब..
और...
उलझ काँटों में
बस अपना 
चैन-सुकून ही
खोता है 

★★★★★

27 टिप्‍पणियां:

  1. सकारात्मक और नकारात्मक ख्याल तो चलते ही रहते है मन का अंतर्द्वंद कितने खूबसूरत तरीके से बयां किया है...अपने अनुभवों की जब समीक्षा हो तो अक्सर लगता है कि फिर से वही बचपन आये जहाँ कितने पेड़ खड़े होते हैं छाया देने के लिए. पेड़ तो शायद फिर भी स्थावर रह जाता है पर हमारे जीवन की गति अलगाव कर देता है उन पेड़ों से. पर .....वही ज़िन्दगी को चलना है. उन्ही सुखद स्मृतियों की कानों पर थपकी लेकर सो जाना होता है. भाव-प्लावित अति सुन्दर कृति :(

    जवाब देंहटाएं
  2. सारगर्भित और सृजन को प्रवाह प्रदान करती आपकी त्वरित प्रतिक्रिया से रचना को सार्थकता मिली संजय जी ! आपकी मनोबल बढ़ाती प्रतिक्रिया सदैव लेखनी को उत्साह देती है । हृदय से हार्दिक आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रतीकात्मक बिम्बों से सजी रचना, गुलाब की कोमलता और काँटों की चुभन के साथ ... दोनों के सकारात्मक और नकारात्मक पक्ष हैं .. और वह भी अलग-अलग दृष्टिकोण से अलग-अलग ही होता है ...मेरी दृष्टिकोण में गुलाब सुखद है पर क्षणभंगुर भी है और काँटा कष्ट का प्रतिक है पर टिकाऊ है ..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत सुबोध जी "मंथन" पर आपकी प्रथम प्रतिक्रिया का.. जिन्दगी क्षणभंगुर है और सत्कर्म का मार्ग कष्टकर लेकिन नश्वरता से दूर । आपकी सारगर्भित प्रतिक्रिया से सृजन को मान मिला । बहुत बहुत आभार ।

      हटाएं
  4. कहीं गहरे अवसाद से जूझता मन , बहुत शानदार अभिव्यक्ति।

    जीवन क्या है ?


    एक पोध ही तो है गुलाब की
    जिसमें सौरभ है और शूल भी
    जिसमें निर्माण है बिखराव भी
    सदा सुखकर नहीं होता कुछ भी
    उतार चढ़ाव की पगडंडी है जीवन भी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी काव्यात्मक जीवन की व्याख्यायित प्रतिक्रिया ने रचना का मान बढ़ाया कुसुम जी । सस्नेह बहुत बहुत आभार आपकी प्रतिक्रिया सदैव उत्साहवर्धन करती है ।

      हटाएं
  5. अंर्तद्वद्व मानवीय गुण है। जीवन के हर पल मेंं विचारों का मंथन कभी सकारात्मकता और कभी नकारात्मकता लेकर आता है..मन में आस का दीप जलते रहे इसलिए ऊर्जावान सकारत्मकता बनाये रखे..बहुत सुंदर रचना मीना दी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतनी प्यारी स्नेहिल सुन्दर और सारगर्भित प्रतिक्रिया के लिए हृदय से आभार श्वेता ! सस्नेह..

      हटाएं
  6. कभी कभी
    अपने आप पर
    भरोसा करने की
    आदत किसी सैलाब
    के आने पर
    टूटी दीवार सी
    ढहती है
    बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना...
    लाजवाब वैचारिकी मंथन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभारी हूँ सुधाजी आपकी स्नेहमयी सार्थक प्रतिक्रिया के लिए । सस्नेह आभार ।

      हटाएं
  7. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 10/08/2019 की बुलेटिन, "मुद्रा स्फीति के बढ़ते रुझानों - दाल, चावल, दही, और सलाद “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग बुलेटिन के आज के अंक में मेरी रचना को साझा करने के लिए हृदय से आभार शिवम् जी ।

      हटाएं
  8. प्रिय मीना दी अंतरमन में उठा कसमकस कुछ वैचारिक रुप ही प्रदान करता है उसी रुप को आप ने बहुत ही सुन्दर ढंग से निखारा है बेहतरीन सृजन 👌👌
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना को प्रवाह और सार्थकता देती प्रतिक्रिया के लिए हृदय से आभार प्रिय अनु ! सस्नेह..

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक आभार ओंकार जी ।

      हटाएं
  10. पाने की कोशिश
    करता है पूरा
    ... गुलाब..
    और...
    उलझ काँटों में
    बस अपना
    चैन-सुकून ही
    खोता है .. बहुत सुंदर और सार्थक रचना मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना सराहना के लिए सस्नेह आभार अनुराधा जी ।

      हटाएं
  11. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (12-08-2019) को "बने ये दुनिया सबसे प्यारी " (चर्चा अंक- 3425) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "चर्चा मंच" पर रचना को स्थान देने के लिए असीम आभार ।

      हटाएं
  12. जीवन द्वन्द्वों पर ही टिका है..सुख-दुःख एक ही सिक्के के दो पहलू हैं..एक जीवन और है जो दो के पार ही मिलता है..जिसमें न फूल हैं न कांटे..केवल एक अखंड निर्वाण...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जीवन का सार है आपके अनमोल सन्देश में.. हृदय की असीम गहराईयों से आभार अनीता जी ।

      हटाएं
  13. ज़िन्दगी यही है ... खुद सोचना, खुद अवसाद में जाना फिर खुद ही उभारना ... जीवन में ये सब नहीं हो तो प्रेरणा कहाँ से मिले ... द्वन्द को बाखूबी लिखा है ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. गिरना,उठना और संभलना माँ की गोद से उतरते ही सीख जाते हैं .. बस भूल जाते हैं स्वभावतः । बहुत बहुत आभार नासवा जी आपकी अमूल्य प्रतिक्रिया से रचना को सार्थकता मिली ।

      हटाएं
  14. ufffffffff....ye kyaa likhaa aapne.....hmmmm

    yun lgaa jin shabdon ko main bhasm kar unki raakh khud me dafan kiye hun..aapne unhe vastr pehnaa diye aur mere saamne rkh die

    लम्बी खामोशी
    उसके बाद
    कुछ भी न कर
    पाने की लाचारी
    अपने आप में
    रिक्तता भरती है


    sakshm hkar bhi...kuch naa kr paane ki laachaari............ye kasak smjhnaa fir bhi aasaan he..par pridin iske saath jinaa...hehre pr makhote lgaaye .hmmm

    Meena ji...

    dhanywad ...is rchnaa ke liye

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Aapki saraahana Bhari baaten...man Ko chhu gayi Joya ji . Hriday ki aseem gaharaaiyon se dhanywad .

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"