Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

मंगलवार, 22 अक्तूबर 2019

"वर्ण पिरामिड'

ओ 
मेरे
दीपक 
हर तम 
सकल हिय
कर ज्योतिर्मय 
हो प्रफुल्लित मन
✳️ ✳️ ✳️ ✳️
माँ
तेरी
ममता
स्नेहाशीष
रक्षा कवच
मेरे जीवन का
तुझ से सम्पूर्णता
✳️ ✳️ ✳️ ✳️

28 टिप्‍पणियां:

  1. जी
    मीना दी,
    सुंदर रचना और उतनी ही सुंदर कामना है-
    कृत्रित रौशनी नहीं , मिट्टी का प्यारा -सा वह नन्हा सा- दीपक टिमटिमाते रहे मेरे हिय में, जिसे बचपन में जलाया करता था। इस दीपावली पर एक प्रयास अवश्य करूँगा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह आशा का दीपक सदैव प्रज्वलित रहे यही कामना है शशि भाई । हार्दिक आभार उत्साहवर्धन के लिए ।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. हौसला अफजाई के लिए हार्दिक आभार जैसवाल जी !

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 22 अक्टूबर 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "सांध्य दैनिक मुखरित मौन" में मेरे सृजन को साझा करने के लिए हार्दिक आभार यशोदा जी ।

      हटाएं
  4. हर तम
    ज्योतिर्मय
    ....वाह कम शब्दों में बात रखते हुए...शानदार वर्ण पिरामिड मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार संजय जी ।

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर सार्थक वर्ण पिरामिड मीना जी ।
    भाव बहुत ही शानदार।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला अफजाई के लिए तहेदिल से आभार कुसुम जी ।

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर सृजन सार्थक और संदेशात्मक भाव दी।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला अफजाई के लिए तहेदिल से शुक्रिया श्वेता । सस्नेह..

      हटाएं
  7. तहेदिल से आभार ज्योति जी ।

    जवाब देंहटाएं
  8. अनुपम अनुकरनीय और अप्रतीम।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत आभार सुजाता जी ।

      हटाएं
  9. सबके हित की कामना करती सुंदर सृजन,शुभ दिपावली मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन के लिए तहेदिल से शुक्रिया कामिनी जी आपको भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं🙏

      हटाएं

  10. जी नमस्ते,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२७ -१०-२०१९ ) को "रौशन हो परिवेश" ( चर्चा अंक - ३५०१ ) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।

    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर साझा कर मेरे सृजन को मान देने के लिए बहुत बहुत आभार अनीता जी ।

      हटाएं

  11. कृपया शनिवार को रविवार पढ़े |

    जवाब देंहटाएं
  12. दिपोस्त्सव के सुन्दर वर्ण पिरामिड ... सुन्दर सन्देश और लजवाब शब्द चयन ...
    बहुत बधाई आपको दीप पर्व की ...

    जवाब देंहटाएं
  13. हौसला अफजाई के लिए तहेदिल से आभार नासवा जी ! आपको भी दीपोत्सव की अनन्त शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"