Followers

Copyright

Copyright © 2021 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

बुधवार, 3 फ़रवरी 2021

"त्रिवेणी"

                 



चलने का फैसला ले लिया आनन-फानन  ..

एक बार मुड़ कर भी देख लिया होता ।


 कैसे दरकता है नेह का पुल ।।


***


सूरत और सीरत में एक समान ..

और विमर्श में अहम् भाव भी  ।


अर्से के बाद चुम्बक के समान छोर मिले है।।


***


नीरवता में धड़कनों की धमक ..

खाली बर्तन सी बजती  है ।


तुम्हारी अनुपस्थिति बहुत खलती है ।


***


बाज़ारों में आगे बढ़ने की होड़ में.. 

गुणवत्ता की जगह प्रतियोगिता आ गई।


आए भी क्यों ना.., वैश्वीकरण का जमाना है ।



42 टिप्‍पणियां:

  1. अभिव्यक्ति का ये रूप बहुत सुन्दर है। बढ़िया प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार वीरेन्द्र जी!

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार शिवम् जी!

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" ( 2028...कलेंडर पत्र-पत्रिकाओं में सिमट गया बसंत...) पर गुरुवार 04 फ़रवरी 2021 को साझा की गयी है.... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. पांच लिंकों का आनन्द" में सृजन को साझा करने के लिए सादर आभार रवींद्र सिंह जी!

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार मनोज जी!

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर त्रिवेणियां मीना जी।
    त्रिवेणी के प्रतिमान पर खरी उतरती।
    भाव सार्थक सुंदर।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल से आभार कुसुम जी! उत्साहवर्धन करती
      आपकी प्रतिक्रिया संबल है मेरा। स्नेह बनाए रखें , हार्दिक आभार।

      हटाएं
  7. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार (०४-०२-२०२१) को 'जन्मदिन पर' (चर्चा अंक-३९६७) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर सृजन को सम्मिलित करने हेतु बहुत बहुत आभार अनीता जी!

      हटाएं
  8. वाह!
    सराहनीय प्रस्तुति।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना भरे वचनों के लिए हार्दिक आभार सधु चन्द्र जी!

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना हेतु सादर आभार प्रिय दी 🙏🙏

      हटाएं
  10. बाज़ारों में आगे बढ़ने की होड़ में..
    गुणवत्ता की जगह प्रतियोगिता आ गई।

    सटीक, सुंदर रचना 🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से लेखनी को सार्थकता मिली...हार्दिक आभार शरद जी🙏🌹🙏

      हटाएं
  11. नीरवता में धड़कनों की धमक ..

    खाली बर्तन सी बजती है ।


    तुम्हारी अनुपस्थिति बहुत खलती है ।

    क्या बात है !!बहुत खूब मीना जी ,दिल को छूती पंक्तियाँ ,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी हृदयस्पर्शी सराहना से लेखन सार्थक हुआ कामिनी जी !असीम आभार ।

      हटाएं
  12. जी हाँ मीना जी, वैश्वीकरण का ज़माना है जिसमें सच्चाई और जज़्बात दोनों को ही ढूंढ़ना बड़ा मुश्किल है ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. लेखन को सार्थकता देती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार जितेन्द्र जी!

      हटाएं
  13. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती सराहना हेतु सादर आभार सर!

      हटाएं
  14. चलने का फैसला ले लिया आनन-फानन ..

    एक बार मुड़ कर भी देख लिया होता ।


    कैसे दरकता है नेह का पुल ।।

    वाह!!!
    जाने वाले को किसी दरकन की परवाह कहाँ
    बहुत ही लाजवाब त्रिवेणी।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से लेखनी को सार्थकता मिली...हार्दिक आभार सुधा जी!

      हटाएं
  15. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार उर्मिला सिंह जी!

      हटाएं
  16. वाह
    बहुत सुंदर सृजन
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  17. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

    जवाब देंहटाएं
  18. पावन त्रिवेणी में खूब डुबकी लगवाया है । अति सुन्दर ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया पा कर हर्षित हूँ । बहुत बहुत आभार अमृता जी!

      हटाएं
  19. कमाल की रचना, बहुत ही सुंदर , बधाई हो मीना जी नमन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ज्योति जी!
      सस्नेहाभिवादन🙏

      हटाएं

  20. सूरत और सीरत में एक समान ..
    और विमर्श में अहम् भाव भी ।
    अर्से के बाद चुम्बक के समान छोर मिले है।।
    वाह ! कमाल के विचार, कमाल की अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  21. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया हेतु स्नेहिल आभार मीना जी!

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"