Followers

Copyright

Copyright © 2021 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

रविवार, 28 फ़रवरी 2021

"अब"


जिद्दी सा हो गया मन

अब कहीं लगता ही नहीं

घर तो मेरा अपना है 

मगर अपना लगता नहीं


सारी सोचें बेमानी सी है

लफ्ज़ों में बयां होती कहाँ हैं

की बहुत कहने की कोशिश

ढंग कोई जँचता नहीं


दिल की जमीन पर

घर की नींव धरी है

नटखट सा कोई गोपाल

अब वहाँ हँसता नहीं


स्मृतियों की वीथियाँ

 भी हो रही हैं धूमिल

साथ का कोई संगी-साथी

अब वहाँ रहता नहीं


खाली-खाली सी बस्ती है

खाली चौक- चौपाल

परदेसी से इस आंगन में

अब कोई बसता नहीं 


***

36 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 01 मार्च 2021 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "पांच लिंकों का आनन्द" में सृजन को साझा करने हेतु सादर आभार यशोदा जी!

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार जितेन्द्र जी!

      हटाएं
  4. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (01 -03 -2021 ) को 'मौसम ने ली है अँगड़ाई' (चर्चा अंक-3992) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच पर रचना सम्मिलित करने के लिए सादर आभार आदरणीय रवींद्र सिंह जी।

      हटाएं
  5. सुंदर सुकोमल भावनाओं की अनुपम अभिव्यक्ति ..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार जिज्ञासा जी!

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनीता जी! सस्नेह ।

      हटाएं
  7. क्यों करो निराश दुखी मन को
    फिर दृढ़ता से नव-सृजन करो

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोबल संवर्द्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

      हटाएं
  9. वाह!सखी मीना जी ,खूबसूरत सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार शुभा जी!

      हटाएं
  10. मार्मिक प्रस्तुति । कभी कभी लगता है बहुत खालीपन ।
    फिर भरेगा हर कोना । शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोबल संवर्द्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार संगीता जी!

      हटाएं
  11. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सर!

    जवाब देंहटाएं
  12. सुन्दर सृजन, मार्मिक और जोश देती हुई, बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सुरेन्द्र शुक्ला जी ।

      हटाएं
  13. खाली-खाली सी बस्ती है

    खाली चौक- चौपाल

    परदेसी से इस आंगन में

    अब कोई बसता नहीं

    वाह !!लाज़बाब सृजन,कहाँ से लाती ये भाव आप,बेहतरीन अभिव्यक्ति सादर नमन मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोबल संवर्द्धन करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया से सृजन को मान मिला ।हार्दिक आभार कामिनी जी ! सस्नेहाभिवादन।

      हटाएं
  14. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ज्योति जी।

      हटाएं
  15. हर शब्द सशक्त एवं हर पंक्ति प्रोत्साहित करती आप निश्चित रूप से बधाई की पात्र हैं इतनी सुन्दर प्रस्तुति के लिये बधाई स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी ऊर्जात्मक प्रतिक्रिया पा कर सृजन सार्थक हुआ । बहुत बहुत आभार अनुज!

      हटाएं
  16. उत्तर
    1. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए सादर आभार उर्मिला जी ।

      हटाएं
  17. बहुत बढ़िया। बहुत सुंदर। आपको ढेरों बधाईयाँ। सादर।

    जवाब देंहटाएं
  18. उत्साहवर्धन करती प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार वीरेन्द्र जी।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"