Followers

Copyright

Copyright © 2023 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

शनिवार, 23 अप्रैल 2022

“त्रिवेणी”



दूध की धार सी ..,निर्मल आसमान में..

कभी-कभी ही दिखती है आकाश गंगा ।


सुकून के पल उससे होड़ करना सीख गए हैं ॥

🍁


तुम आए और बिना द्वार पर दस्तक दिये…

खामोशी से ही अलविदा कह लौट भी गए  ।


रुकते तो जीवन राग सप्त सुरों में गा उठता ॥

🍁


गलत पते पर भेजी शुभेच्छाएं कभी-कभी…

 सही जगह भी पहुँच जाया करती है ।


सच्चे दिल की दुआ कभी असफल नहीं होती ॥

🍁

25 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार आ. ओंकार सर 🙏

      हटाएं
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (24-4-22) को "23 अप्रैल-पुस्तक दिवस"(चर्चा अंक-4409) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  3. मंच पर सृजन साझा करने के लिए हार्दिक आभार कामिनी जी !

    जवाब देंहटाएं
  4. प्राकृतिक सौंदर्य को बहुत ही सहज रूप से प्रस्तुत किया है आदरणीय मीणा जी

    जवाब देंहटाएं
  5. गलत पते पर भेजी शुभेच्छाएं कभी-कभी…

    सही जगह भी पहुँच जाया करती है ।



    सच्चे दिल की दुआ कभी असफल नहीं होती ॥

    वखह!!!
    एक से बढ़कर एक त्रिवेणी..
    बहुत सुन्दर, सार्थक एवं लाजवाब।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार सुधा जी!

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ज्योति जी!

      हटाएं

  7. तुम आए और बिना द्वार पर दस्तक दिये…

    खामोशी से ही अलविदा कह लौट भी गए ।



    रुकते तो जीवन राग सप्त सुरों में गा उठता ॥..
    वाह ! कितने सुंदर अहसास।
    बेहतरीन रचना ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार जिज्ञासा जी !

      हटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर सृजन कोमल भाव लिए। शीतल चाँदनी सा बिखरता।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनीता जी!

      हटाएं
  9. सच्चाई से की गई प्रार्थना हमेशा स्वीकार होती है

    बहुत सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. सृजन को सार्थकता प्रदान करती सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार ज्योति खरे सर !

    जवाब देंहटाएं
  11. एक से बढ़कर एक त्रिवेणी....कोमल भाव

    जवाब देंहटाएं
  12. त्रिवेणी पर आपकी सराहना सम्पन्न प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक आभार अनुज!

    जवाब देंहटाएं
  13. आपके कथ्यों और संप्रेषण में एक अलग ही खिंचाव होता है जो कुछ देर के लिए मौन में ले जाता है।

    जवाब देंहटाएं
  14. लिखना सफल हुआ अमृता जी ! सस्नेह वन्दे !!!

    जवाब देंहटाएं
  15. उत्तर
    1. हार्दिक आभार सहित आपका “मंथन” पर स्वागत है ।सादर…।

      हटाएं
  16. As the next chart exhibits, such income growth has thecasinosource.com led to raised margins. Evolution is an online business-to-business on line casino supplier focused on the “live” vertical, with greater than 300 customers around the world. Mastercard A credit card for deposits and is trusted universally. Your first 4 deposits will be matched by JackpotCity with a bonus of a lot as} $400. We check out all the alternative ways to contact a casino’s buyer assist team, to ensure they’re responding as shortly as they claim to be. Cutting-edge green display screen expertise to offer full or semi-branded on line casino environments on request.

    जवाब देंहटाएं

मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार 🙏

- "मीना भारद्वाज"