Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

गुरुवार, 15 जून 2017

“अष्ट प्रहर” (हाइकु)

उजली भोर
खगों का कलरव
उनींदी आँखें‎
ग्रीष्म महिना
तपती दोपहरी
सूनी गलियाँ
गोधूलि वेला
ताँबे सा दिनकर
दृष्टि ओझल
सघन कुँज
जुगनू की चमक
मृदु बयार
मुदित हास
पायल की छनक
हल्की आहट
नीरव रात
चाँदनी में‎ झरते
हरसिंगार
XXXXX

4 टिप्‍पणियां:


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"