Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

रविवार, 16 सितंबर 2018

"कब तक”

नैन हमारे तकते राहें ,जाने तुम आओगे कब तक ।
जाओ तुम से बात करें क्यों , साथ हमारा दोगे कब तक ।।

ना फरमानी फितरत पर हम , बोलो क्योंकर गौर करेंगे ।
तुम ही कह दो जो कहना है , हम से और लड़ोगे कब तक ।।

बेमतलब यूं दुख देने का , हुनर कहाँ  से तुमने पाया ।
मेरी तो आदत ऐसी ही , तुम ये बात कहोगे कब तक ।।

छोड़ो हठ  करने की आदत  , काम कई हैं करने  बाकी ।
घर अपना है जग अपना है , तुम ये सब समझोगे कब तक ।।

जीवन नैया बिन नाविक के , बोलो पार करोगे कैसे ।
बहते दरिया के पानी को , बाँधों से रोकोगे कब तक ।।
XXXXX

27 टिप्‍पणियां:

  1. ना फरमानी फितरत पर हम , बोलो क्योंकर गौर करेंगे ।
    तुम ही कह दो जो कहना है , हम से और लड़ोगे कब तक !!!!!!!!
    अत्यंत भावपूर्ण पंक्तियाँ हैं सभी | हार्दिक बधाई प्रिय मीना जी |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रेणु जी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से धन्यवाद ।

      हटाएं
    2. सुस्वागतम मीना जी |

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 18 सितम्बर 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस मान भरे निमंत्रण के लिए हृदयतल से आभार आपका आदरणीय 🙏🙏

      हटाएं
  3. वाह वाह अद्भुत क्या कहने..... भारद्वाज जी उत्तम सृजन

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद सराहनीय प्रतिक्रिया के लिए नवीन श्रोत्रिय जी ।

      हटाएं
  4. वाह बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर ....भावपूर्ण रचना....
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेहद प्रसन्नता हुई आपकी सराहनीय प्रतिक्रिया पाकर, आभार सुधा जी ।

      हटाएं
  6. सुना है खुद को बहुत छलकाए जा रहे हो
    दरिया बन ही जानी है खुद के पानी से
    यूँ तो खुला बहोगे कब तक.

    बेहद लाजवाब प्रस्तुती.

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना मीना जी..👌

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर रचना। सरल भोली भावनाओं को शब्दबद्ध कर दिया है। बेहतरीन।

    जवाब देंहटाएं
  9. सच है ... दरिया के पानी को रोकना आसान नहीं होता ...
    निकल आता है तट तोड़ कर ...
    हर शेर में गज़ब अंदाज़ ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धन हेतु तहेदिल से धन्यवाद नासवा जी ।

      हटाएं
  10. जीवन नैया बिन नाविक के , बोलो पार करोगे कैसे ।
    बहते दरिया के पानी को , बाँधों से रोकोगे कब तक ।।.... बहुत सुंदर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "अटूट बंधन" आपका हृदयतल से धन्यवाद 🙏🙏 आपकी प्रतिक्रियाएं सदैव मनोबल बढ़ाती हैं ।

      हटाएं
  11. सोचा की बेहतरीन पंक्तियाँ चुन के तारीफ करून... मगर पूरी नज़्म ही शानदार है ...आपने लफ्ज़ दिए है अपने एहसास को... दिल छु लेने वाली रचना ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद संजय जी आपकी सराहनीय और मनोबल बढ़ाने वाली प्रतिक्रिया के लिए ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"