Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 21 सितंबर 2018

“तृष्णा”

अभिव्यक्ति शून्य , भावों से रिक्त ।
तृष्णा से पंकिल , ढूंढता असीमित ।।

असीम गहराइयों में , डूबता-तिरता ।
निजत्व की खोज में ,रहता सदा विचलित ।।

दुनियावी गोरखधंधों से , होता बहुत व्यथित ।
सूझे नही राह कोई , हो गया भ्रमित ।।

मृगतृष्णा में फंसे , तृषित हिरण सा ।
मरु लहरियों के जाल से , है बड़ा चकित ।।

तृष्णा में लिपटा , खुद को छलता ।
मेरा मन अपने आप में , होता सदा विस्मित ।।

XXXXX

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  2. तृष्णा में लिपटा , खुद को छलता ।
    मेरा मन अपने आप में , होता सदा अचंभित ।।
    वाह बहुत सुंदर 👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहनीय प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से आभार अनुराधा जी ।

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. स्वागत अनीता जी "मंथन" पर एवं प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार ।

      हटाएं
  4. लाजवाब।
    बस वाह निकलती हैं मुँह से।
    बहुत बहुत बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  5. स्वागत आपका "मंथन" पर ,आपके सराहना भरे शब्दों के लिए हार्दिक धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  6. वाहः बेहतरीन अभिव्यक्ति
    बहुत शानदार

    जवाब देंहटाएं
  7. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 21/09/2018 की बुलेटिन, जन्मदिन पर "संकटमोचन" पाबला सर को ब्लॉग बुलेटिन का प्रणाम “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "ब्लॉग बुलेटिन" मे मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार शिवम जी ।

      हटाएं
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक २४ सितंबर २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  9. "पांच लिंकों का आनन्द" में मेरी रचना को स्थान देकर मान देने हेतु हार्दिक आभार श्वेता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत शानदार अभिव्यक्ति.

    जवाब देंहटाएं
  11. भावमय करते शब्‍दों के साथ गजब का लेखन ...आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  12. मृगतृष्णा में फंसे , तृषित हिरण सा ।
    मरु लहरियों के जाल से , है बड़ा चकित ।।
    हमकदम के बहाने से तृष्णा पर बहुत ही लाजवाब सृजन प्रिय मीना जी |सस्नेह शुभकामनाएं स्वीकार हों |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रेणु जी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए हृदयतल से धन्यवाद ।

      हटाएं
  13. बहुत सुंदर मीना जी ।
    इंसा क्यों निर्बल होता है,
    तृष्णा में उलझा रहता है
    निज अस्तित्व भी खोता है।
    तृष्णा पर बहुत सटीक अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सराहनीय प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार कुसुम जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"