Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

गुरुवार, 18 अक्तूबर 2018

" त्रिवेणी"

( 1 ) गीली रेत पर कभी उकेरी थी एक तस्वीर ।
समेट ले गई सब कुछ वक्त की लहर ।

बस कुछ शंख सीपियों के निशान बाकी हैं ।।

( 2 ) कभी कभी बेबाक हंसी ।
बेलगाम झरने सरीखी होती है ।

गतिरोध आसानी से हट जाया करते हैं ।।

( 3 ) आज कल बोलने का वक्त है ।
कहने सुनने से आत्मबल बढ़़ जाता है ।

मछली बाजारों में बातें कहां शोर ही सुनता है ।।
XXXXX

29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ख़ूब ...
    हर त्रिवेणी लाजवाब ... नया मोड़ देती हुयी तीसरी पंक्ति लनवाब है ...

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर,
    शायद ही आज कोई त्रिवेणी लिख रहा हो।आपकी शानदार रचना देख कर इस विधा की कामयाबी का एहसास हुआ गुलज़ार साहब की याद आ गयी।
    आभार

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपकी उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए । गुलज़ार साहब को पढना मुझे बेहद पसंद है । आज भी उनका लिखा चाहे गद्य में हो या पद्य में मिल जाए तो जरूर पढ़ती हूं । लेखन के क्षेत्र में उनका योगदान बेमिसाल है। मेरी त्रिवेणियों ने आपको उनकी याद दिलाई यह बहुत बड़ी बात है मेरे लिए ।

      हटाएं
  3. सार्थक चिंतन से प्रवाहमान त्रिवेणी.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार रविन्द्र सिंह जी उत्साहवर्धित करती प्रतिक्रिया के लिए।

      हटाएं
  4. किसी भी चीज के लिए 'वातावरण' महत्वपूर्ण है। इसी से परिणाम का आकलन किया जा सकता है।
    एक अद्भुत रचना प्रस्तुत किया आपने ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत आपका "मंथन" पर , आपकी सुन्दर सी प्रतिक्रिया के लिए तहेदिल से धन्यवाद प्रकाश जी।

      हटाएं
  5. आपकी लिखी रचना "साप्ताहिक मुखरित मौन में" शनिवार 20 अक्टूबर 2018 को साझा की गई है......... https://mannkepaankhi.blogspot.com/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "साप्ताहिक मुखरित मौन" में मेरे सृजन को शामिल करने के लिए हृदयतल से धन्यवाद यशोदा जी।

      हटाएं
  6. वाह...
    त्रिवेणी लिखने का चलन नहीं रहा अब साब... यही सब बातें सुनने को मिलतीं हैं आजकल, पर दाद देनी पड़ेगी मैम इस प्रतिभा की। बहुत ही ख़ूबसूरत

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अमित जी आप सब की सराहना मिली मेरा लिखना सफल हुआ। आपकी प्रतिक्रिया हृदय छू गई । तहेदिल से धन्यवाद आपका ।

      हटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. मछली बाजारों में बातें कहां शोर ही सुनता है ।।
    लाजवाब त्रिवेणी लिख रही है आजकल..... मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदय से आभार संजय जी , आपकी प्रतिक्रियाएं सदैव बेहतर लिखने के लिए उत्साहित करती हैं ।

      हटाएं
  9. बहुत सुंदर , आजकल ये विधा कम ही पढने को मिलती है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका कथन सत्य है,बहुत बहुत धन्यवाद सराहना हेतु ।

      हटाएं
  10. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है. https://rakeshkirachanay.blogspot.com/2018/10/92-93.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. "मित्र मंडली" में रचना "त्रिवेणी" को सम्मिलित करने के लिए हृदयतल से धन्यवाद राकेश जी ।

      हटाएं
  11. सुंदर प्रयोग कर रही हैं मीना जी आप नई विधाओं में सभी दुरुस्त और अच्छी प्रस्तुति । बधाई।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रतिक्रिया मनोबल संवर्धक है कुसुम जी । हृदयतल से आभार व्यक्त करती हूं ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"