Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 12 अक्तूबर 2018

"माहिया" ( स्वीकारोक्ति )

(1) बचपन कब बीत गया
इस के जाने से
मन मेरा रीत गया

(2) मैं तो बस ये जानूं
तुम को  ही अपना
सच्चा साथी मानूं

(3) लम्बी बातें कितनी
नापूं तो निकले
गहरी सागर जितनी

(4) मैं याद करूं क्या क्या
बीच हमारे थीं
सौ जन्मों की बाधा

(5) छोटी छोटी बातें
अब लगती हैं सब
जन्मों की सौगातें

XXXXX

22 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... गज़ब के माहिए ...
    पंजाब के आँचल से निकली इस लोक गीत की शैली लाजवाब है ...
    बहुत बधाई ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत धन्यवाद नासवा जी ।

      हटाएं
  2. बहुत उम्दा.
    सच्चे इश्क में छोटीछोटी बाते या नोक झोंक सौगाते ही तो होती है.
    हद पार इश्क 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सारगर्भित उत्साहवर्धित प्रतिक्रिया के लिए हार्दिक धन्यवाद रोहिताश्व जी ।

      हटाएं
  3. एक एक माहिए ...को खुबसूरत शब्दों में पिरोया है मीना जी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी हौसला अफजाई करती प्रतिक्रिया सदैव
      उत्साहवर्धन करती हैं संजय जी ।

      हटाएं
  4. प्रिय मीना जी -- बहुत सुंदर माहिया रचा अपने | गागर में सागर सरीखा !!!!!! शुभकामनायें |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी स्नेहिल और उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए तहेदिल से शुक्रिया रेणु जी ।

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर माहिया लिखा आपने मीना जी ... बधाई

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला अफजाई के लिएबहुत बहुत आभार आपका 🙏🙏

      हटाएं
  6. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 12/10/2018 की बुलेटिन, निन्यानबे का फेर - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस मान के लिए तहेदिल से धन्यवाद शिवम् जी ।

      हटाएं
  7. लाजवाब माहिया!!!
    सुन्दर शब्दविन्यास...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला अफजाई के लिए हार्दिक आभार सुधा जी ।

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"