Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 8 फ़रवरी 2019

"वसन्त"(हाइकु)

आया वसन्त
ले मृदुल बयार
मनभावन

फूली सरसों
स्वर्णिम गोधूम
खिले पलाश


वीणा धारिणी
जननी जन्मोत्सव
वसन्तोत्सव

रंगों के साथ
छिड़़े फागुन राग
होली त्यौहार

प्रकृति नृप
हुलसित करता
सृष्टि के प्राण


             XXXXX

12 टिप्‍पणियां:

  1. वसंत का आगमन,प्रकृति के कण कण में नव जीवन का संचरण...वसंत के आगमन से पहले ही बेहद खूबसूरत हाइकु मीना जी :)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हृदयस्पर्शी अनमोल वचनों के लिए हृदयतल से आभार संजय जी:)

      हटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 08/02/2019 की बुलेटिन, " निदा फ़जली साहब को ब्लॉग बुलेटिन का सलाम “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग बुलेटिन में मेरे सृजन को शामिल करने के लिए हृदयतल से आभार शिवम् जी ।

      हटाएं
  3. बसंत के मधुर आगमन का स्वागत हैं लाजाब हाइकू ...
    बहुत सुन्दर ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके ऊर्जावान वचनों से रचना को सार्थकता मिली । बहुत बहुत आभार नासवा जी!!

      हटाएं
  4. वाह, वसंत ऋतु ने अपनी दस्तक दे दी है। वंसत के ऊपर पोस्ट प्रकाशित करके आपने यह याद दिला दी। इसके लिये आपका तहेदिल से धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत आपका ब्लॉग पर एवं सृजनात्मकता की सराहना के लिए आपका अत्यन्त आभार जमशेद जी ।

      हटाएं
  5. बहुत बहुत आभार विकास जी ।

    जवाब देंहटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"