Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शुक्रवार, 2 फ़रवरी 2018

"भड़ास"

भौगोलिक परिवेश में
धरती की हलचल ।
अन्दरुनी परतों के
खिसकने का हाल
बयान करती है ।
अन्दर सब कुछ‎ ठीक !!‎
मगर सब ठीक कहाँ होता है ?
धरा  को तो ध्वंस झेलना ही पड़ता है ।
इन्सान की भड़ास भी
वसुन्धरा की इस
हलचल से कम नही ।
जब निकलती है तो
ना जाने कितने ही
तंज और व्यंग उगलती है ।
उगल कर ढेर सारा लावा
खुद हो जाती है  शांत और‎
दूसरों पर मुसीबत बनती है ।
      
         XXXXX

21 टिप्‍पणियां:

  1. jo ndian upar se shant lgti hain,pr neechey tej prvah hota hai-ashok

    जवाब देंहटाएं
  2. bhdas nikane ka mtlb khud shant ho jana yani apne tnav ko dur kr dena hota hai,voh andr hi andr bda nuksan krta hai

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरा मानना है कि स्वयं की सन्तुष्टि के लिए‎ दूसरों पर रोष प्रकट करना गलत है इसलिए तुलनात्मक‎ दृष्टिकोण‎ में भूकम्प का उदाहरण लिया है कि भूगर्भिक शक्ति‎यों के चलते नुकसान‎ धरती पर रहते जीव भोगते हैं.

      हटाएं
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन खुशवंत सिंह और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं
  4. निमन्त्रण के लिए‎ एवं मेरी रचना "ब्लॉग बुलेटिन" में सम्मिलित कर सम्मान‎ देने के लिए धन्यवाद हर्षवर्धन जी.

    जवाब देंहटाएं
  5. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ०५ फरवरी २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. लोकतंत्र'' संवाद मंच पर मेरी रचना को सम्मिलित कर मान देने के लिए‎ आभार ध्रुव सिंह जी.

      हटाएं
  6. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/02/55.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक कर मान देने के लिए‎ बहुत‎ बहुत‎ आभार राकेश जी.

      हटाएं
  7. बहुत ही सही लिखा आदरणीय मीना जी | भड़ास निकलने से अपना मन शांत लेकिन सुनने वालों को अनावश्यक मानसिक या और कई तरह की परेशानियाँ झेलनी पड़ती हैं | सादर -----

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत‎ बहुत‎ धन्यवाद रेणु जी.

    जवाब देंहटाएं
  9. सच बात है भड़ास निकालने से अपने को कष्ट होता है
    प्रकृति के साथ इसका सचेत करता मिश्रण
    बहुत खूब
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत बहुत‎ आभार ज्योति जी.

    जवाब देंहटाएं
  11. कई बार ये भड़ास निकलनी भी ज़रूरी है नहि तो मन में कूड़ा इकट्ठा हो जाता है ... अच्छी रचना है ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना सराहना के लिए हार्दिक आभार नासवा जी.

      हटाएं


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"