Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

सोमवार, 12 दिसंबर 2016

"फीनिक्स" (हाइकु)

निर्दोष गात
चंचल चितवन
धानी आँचल

खिले प्रसून
सरसे उपवन
बासन्ती मन

तू गतिमान
षट्ऋतु पथ पर
अनवरत

भू तल पर
है 'फीनिक्स' समान
अदम्या नारी


XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"