Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

बुधवार, 15 मार्च 2017

"घर"

बहुत दिन बीते मेरा घर ,
मेरे लिए परदेसी सा  हो गया है ।
मेरी ही तरह अपने  ही शहर में ,
अजनबी सा हो गया है ।
खाली छत पे  झुका बूढ़ा सा पेड़,
टूट गया या पता नही, हरा खड़ा होगा ।
कच्चा आंगन था मिट्टी वाला ,
शायद अब कंकरीट पड़ा होगा ।
राबता है उसके संग ऐसा,
सांसों की डोर सा बंधा रहता है ।
मैं जाऊँ चाहे कहीं भी  यादों में ,
साये सा साथ रहता है ।

XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"