Followers

Copyright

Copyright © 2019 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

गुरुवार, 30 मार्च 2017

“सिया के राम” (हाइकु)

प्रिय लखन
फरकै वाम अंग
जी में संशय ।

हे  ! मृग छौने
मेरी मृगनैयनी
थी यहीं-कहीं ।

भ्रमर पुंज
लता-प्रसून कुंज
देखी वैदेही ?
 
रघु नन्दन
नील नैन निर्झर
व्याकुल मन ।

हे पर्णकुटी
मौन सी पंचवटी
कहाँ जानकी ?

रोए राघव
दुखी जड़-जंगम
हा ! मेरी सीय ।

XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"