Followers

Copyright

Copyright © 2020 "मंथन"(https://shubhrvastravita.blogspot.in/) .All rights reserved.

शनिवार, 4 मार्च 2017

"ख़त"

मन की खाली स्लेट पर मैनें
तुम्हारे नाम एक खुला ख़त लिखा है
तुम्हारा मंद हास और आँखों का नूर
मेरे मन के खाली कैनवास  को
वासन्ती फूलों से ढक देता है
तुम्हारी दूरी मन में खालीपन और
सांसों में बोझिलपन भर देती है
वक्त जैसे थम सा जाता है और
मेरी सोचों का दायरा बस तुम्हारे
इर्द-गिर्द  ही सिमट कर रह जाता है
क्या करूं ---  मेरे जीवन की डोर
बस तुम्ही से बँधी है और तुमसे.
दूरी के अहसास से  मेरे मन में
बोझलपन और विचारों में रिक्तता भरती है ।

XXXXX

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें


“मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार…. , आपकी प्रतिक्रिया‎ (Comment ) मेरे लिए अमूल्य हैं ।”

- "मीना भारद्वाज"