Followers

Copyright

Copyright © 2024 "मंथन"(https://www.shubhrvastravita.com) .All rights reserved.

बुधवार, 16 अगस्त 2017

“त्रिवेणी"

कोशिश की है कुछ नया करने की ।  कभी पढ़ी थी गुलजार साहब की लिखी‎  त्रिवेणियाँ ….,लगा बात कहने का हुनर शायद ही जुट पाए  लेकिन मन तो मन ठहरा उसने  चाहा प्रयास करना  चाहिए । 

                (1)

सारी दोपहर यूं ही खर्च कर दी‎
कुछ लिखकर काटते हुए ।

सोचों में डूबा मन बिलकुल  खाली था ।
 
                 (2)

गाँव दिन भर  चादर तान के सोया था
सांझ ढले घरों में उठते धुएँ से सुगबुगाहट हुई है ।

भोर होते ही  वह फिर सो जाएगा।

                ××××××

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर त्रिवेणी लिखी आपने मीना जी। बहुत सुंदर शब्द संरचना एवं भाव।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 17 अगस्त 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत उम्दा ! मीना जी आख़िर हृदय की बात जुबां तक आ ही गई बहुत ख़ूबसूरत पंक्तियाँ आभार ,"एकलव्य"

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना सराहना के लिए अत्यन्त‎ आभार ध्रुव सिंह जी .

      हटाएं
  4. वाह ! मनभावन त्रिवेणियाँ

    जवाब देंहटाएं
  5. उत्साह‎वर्धन करती प्रतिक्रिया‎ के लिए‎ धन्यवाद अनीता जी .

    जवाब देंहटाएं
  6. सारी दोपहर यूं ही खर्च कर दी‎
    कुछ लिखकर काटते हुए ।
    ..... लफ्जों पर शानदार पकड़ मीना जी मन फ्रेश हो गया :)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. लेखन कार्य‎ की सराहना के लिए‎ हार्दिक धन्यवाद संजय जी . आपकी प्रतिक्रिया‎ मेरे लिए अमूल्य है .

      हटाएं

मेरी लेखन यात्रा में सहयात्री होने के लिए आपका हार्दिक आभार 🙏

- "मीना भारद्वाज"